April 18, 2018
टॉप न्यूज़

भाजपा गोरखपुर सीट से अभिनेता रवि किशन पर लगा सकती है दांव

भाजपा गोरखपुर सीट से रवि किशन पर लगा सकती है दांव

गोरखपुर: सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ द्वारा खाली की गयी गोरखपुर की लोक सभा सीट पर उप चुनाव की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। चुकी यह सीट भाजपा के लिए पुरे देश में सबसे सुरक्षित सीटों में से एक मानी जाती है इसलिए यहाँ भगवा दल से दावेदारों की भी अच्छी खासी फेहरिस्त है। सभी को पता है कि एक बार यहाँ से टिकट मिल गया तो फिर कोई बहुत बड़ा उलटफेर ही पार्टी के उम्मीदवार को यहाँ हरा सकता है।

इस सीट का प्रतिनिधितव 1998 से 2017 तक लगातार गोरक्षपीठाधीस्वर योगी आदित्यनाथ कर रहे थे। सूबे का मुखिया बनने के बाद योगी ने इस सीट से इस्तीफा दे दिया। उससे पहले तीन बार 1989 से गोरखनाथ मंदिर के ही महंत अवैद्यनाथ इस सीट से तीन बार सांसद थे। अवैद्यनाथ एक बार यहाँ से हिन्दू महासभा के टिकट पर दो बार भाजपा के टिकट पर चुनाव जीते थे।

मतलब यह है कि 1984 के बाद यहाँ से भाजपा और हिन्दू महासभा को छोड़ किसी और पार्टी की यहाँ से जीत तो छोड़िये ठीक से चुनौती भी नहीं दे पायी। यही कारण है कि इस सीट के लिए दावेदारों की कमी नहीं रहती है। कभी इस सीट से वर्तमान क्षेत्रीय उपाध्यक्ष उपेंद्र शुक्ला का नाम आगे आता है तो कभी पूर्व गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद का नाम भी उछाला जाता है। मंदिर से भी कुछ नामों पर गाहे बगाहे चर्चा होती ही रहती है।

अब चर्चाओं में एक नाम और जुड़ गया है और वो है अभिनेता रवि किशन का। भोजपुरी फिल्मों के बड़े अभिनेता रवि किशन शुक्ला ने बीते वर्ष फरवरी में भाजपा ज्वाइन किया है। इससे पहले वो कांग्रेस में थे। रवि किशन 2014 का लोक सभा चुनाव जौनपुर से कांग्रेस के ही टिकट पर लड़े थे और शुरू से ही कांग्रेस थे। इनको भाजपा में लाने का श्रेय इनके मित्र भोजपुरी अभिनेता और गायक, वर्तमान में भाजपा सांसद और पार्टी के दिल्ली अध्यक्ष मनोज तिवारी को जाता है। वही मनोज तिवारी जो योगी आदित्यनाथ के खिलाफ गोरखपुर से कभी समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़े थे।

न्यूज़ अग्ग्रेगेटर daily hunt के अनुसार रवि किशन का कहना है कि यदि सीएम योगी का आशीर्वाद मिला तो वो गोरखपुर से चुनाव लड़ने को तैयार हैं। हालाँकि बीजेपी की तरफ से इस सीट पर अब तक किसी प्रत्याशी के नाम का आधिकारिक ऐलान नहीं किया गया है। मूलरूप से पूर्वांचल के जौनपुर के रहने वाले 46 वर्षीय रवि किशन का ब्राह्मण होना भी उनके पक्ष में जा सकता है।

वहीँ इस पूरे मामले पर भाजपा के क्षेत्रीय प्रवक्ता डॉ सत्येंद्र सिन्हा का कहना था कि यह सब चीजें आलाकमान को तय करना है, लेकिन उनकी जानकारी में रवि किशन के नाम की बात आई थी। वह लगातार बड़े नेताओं के संपर्क में हैं और वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सीट से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी का जो भी निर्णय होगा वह हम सभी कार्यकर्ताओं के लिए सर्वमान्य होगा।

निर्वाचन आयोग ने उत्तर प्रदेश की गोरखपुर तथा फूलपुर लोकसभा उप चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है, हालांकि उपचुनाव की तारीख का ऐलान अभी नहीं हुआ है। गोरखपुर उपचुनाव में आज ईवीएम की बड़ी खेप पहुंच गई है। इन मशीनों का वहां पर परीक्षण हो रहा है।

गौरतलब है कि गोरखपुर के साथ-साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के इस्तीफा देने से खाली हुई इलाहाबाद जिले की फूलपुर लोकसभा सीट पर भी चुनाव होना है। इन दोनों सीट पर उप चुनाव की तारीख का ऐलान नहीं हुआ है।

गोरखपुर की खाली सीट पर उप चुनाव कराने के लिए शाहजहांपुर और राय बरेली से ईवीएम गोरखपुर पहुंच गई है। हैदराबाद से आई इंजीनियरों की टीम ईवीएम की जांच कर रही है। सम्भावना है कि दोनों सीटों पर उप चुनाव 22 मार्च से पहले होंगे।

प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी वेंकटेश्वर लू के निर्देशानुसार विधानसभा निर्वाचन नामावलियों का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम 26 दिसंबर से शुरू हो चुका पुनरीक्षण अभियान 31 जनवरी तक चलेगा। इसके बाद 21 फरवरी को अंतिम प्रकाशन किया जाएगा।

बता दें कि गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र में पांच विधानसभा सीट हैं। इसमें गोरखपुर नगर, ग्रामीण, कैंपियरगंज, पिपराइच और सहजनवां शामिल हैं।

Related Posts

भाजपा गोरखपुर सीट से अभिनेता रवि किशन पर लगा सकती है दांव