April 18, 2018
गोरखपुर

एक ओर महोत्‍सव का जश्‍न, दूसरी ओर जिंदगी की जंग हार गई छेड़खानी से आहत गोरखपुर की बेटी

गोरखपुर: अजीब विडंबना है…एक तरफ योगी और उनकी सरकार गोरखपुर महोत्‍सव के जश्‍न में डूबी हुई है। वहीं छेड़खानी से आहत गोरखपुर की एक बेटी की सांसे आज थम गई। जो आवाज कभी मां-बाप के चेहरे पर मुस्‍कान बिखेरती थी, वहीं आवाज आज उनके लिए जिंदगी भर का दर्द बन गई है।

छेड़खानी से आहत एक नाबालिग छात्रा ने 27 दिसंबर को खुद को आग के हवाले कर लिया था। आज उसकी मौत ने सिस्‍टम पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं। यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ के गढ़ में कानून व्‍यवस्‍था का हाल बुरा है। शोहदों की छेड़खानी से तंग 9वीं कक्षा की 17 वर्षीय दलित छात्रा ने 27 दिसंबर को खुद के ऊपर मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगा ली। गंभीर हालत में उसे जिला अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसने आज भोर में 4 बजे दम तोड़ दिया।

हालांकि इस मामले के चारों आरोपी जेल जा चुके हैं. लेकिन, छेड़खानी की घटनाओं ने योगी सरकार की कानून व्‍यवस्‍था पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं। यूपी के गोरखपुर जनपद के बड़हलगंज क्षेत्र के सेमरा बुजुर्ग गांव की रहने वाली 17 साल की कक्षा 9 में पढ़ने वाली दलित छात्रा कुमारी सुधा ने 27 दिसंबर की सुबह आठ बजे शोहदों की छेड़खानी से तंग आकर घर पर ही मिट्टी का तेल छिड़ककर खुद को आग के हवाले कर लिया था।

घटना के बाद जिला अस्‍पताल में भर्ती सुधा ने 28 दिसंबर को कैमरे पर अपने साथ हुई आपबीती रो-रोकर बयां की थी। शोहदे उसी के गांव के रहे हैं। जब वह परिजनों के साथ आरोपियों के घर शिकायत लेकर पहुंची, तो उसे और उसके माता-पिता के साथ गाली-गलौज और मारपीट भी की गई। उसके बाद घर पहुंची आहत छात्रा ने घर पहुंचने के बाद मिट्टी का तेल डालकर आग लगा ली थी। तभी से वह जिला अस्‍पताल में जिंदगी और मौत से लड़ रही थी।

घरवाले काफी मशक्कत के बाद आग बुझाकर किशोरी को स्वास्थ्य केंद्र केंद्र ले गए। प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सकों ने छात्रा को जिला चिकित्‍सालय रेफर कर दिया, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई थी। किशोरी की मां ने बताया कि गांव के ही राहुल, अर्जुन, अमित और एक युवक उसकी बेटी के साथ 8 महीने से छेड़छाड़ कर रहे थे। उस दिन जब वह सुबह शौच के लिए अपनी 10 साल की छोटी बहन के साथ निकली, तो बंधे के किनारे राहुल, अर्जुन, अमित और एक अन्‍य युवक ने उसे घेर लिया और उसके साथ अश्‍लील हरकत करने लगे।

पीडि़ता के पिता ने बताया कि पिछले 8 माह से उनकी बेटी के साथ गांव के ही शोहदे राहुल, अर्जुन, अमित और एक अन्‍य छेड़खानी कर रहे थे। पुलिस ने इस घटना को गंभीरता से लिया होता तो आज उनकी बेटी के साथ ये घटना नहीं होती।

वहीँ इस मुद्दे पर पुलिस अधीक्षक दक्षिणी ज्ञान प्रकाश चतुर्वेदी ने बताया कि इस मामले में चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। आज सुबह पीडि़ता की मौत हो गई है. पीडि़ता के शव का पोस्‍टमार्टम कराया जा रहा है. उसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

हालांकि पुलिस ने इस मामले में त्‍वरित कार्रवाई कर सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया हे. लेकिन, इस घटना को पुलिस ने पहले गंभीरता से लिया होता तो दलित छात्रा को ऐसा गंभीर कदम नहीं उठाना पड़ता।

Related Posts

एक ओर महोत्‍सव का जश्‍न, दूसरी ओर जिंदगी की जंग हार गई छेड़खानी से आहत गोरखपुर की बेटी