April 18, 2018
टॉप न्यूज़

नौ दिन चले अढ़ाई कोस की गति से चल रहे हैं सीएम सिटी में योगी की प्राथमिकता वाले कार्य

सीएम सिटी में योगी की प्राथमिकता वाले कार्य लेट लतीफी

गोरखपुर: प्रदेश में सरकार गठन हुए लगभग 10 माह का समय हो गया है, किन्तु सरकार द्वारा घोषित कई योजनाएं आज भी अपने लेट लतीफी से क्रियान्वित नही हो सकी हैं। हालांकि समय समय पर इनके क्रियान्वयन को लेकर प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा समीक्षा बैठक की जाती है। बावजूद इसके अभी भी कई योजनाएं अपने लक्ष्य तक नही पहुंच पाई है।

जैसे:नन्दानगर अन्डरपास निर्माण,सम्भागीय परिवहन विभाग का माडल कार्यालय निर्माण , नगरनिगम द्वारा महेसरा में सालिड वेस्ट मैनेजमेन्ट के तहत प्लान्ट लगाया जाना,बाघागाड़ासे नौसड़ तक फोरलेन सड़क निर्माण, गोरखपुर-एयरपोर्ट-गोरखनाथ मंदिर-जंगल कौड़िया 17 किमी फोरलेन निर्माण आदि है।

बता दें कि गत 19 मार्च 2017 को प्रदेश सरकार का गठन हुआ था और सरकार की कमान योगी आदित्यनाथ ने सम्हाली है। सीएम बनने के बाद अपने तमाम दौरों में उनहोने जनपद के विकासोन्मुखी कई योजनाओं की घोषणा एवम शुभारम्भ भी किया,किन्तु बाद में सारी की सारी नौ दिन चले ढ़ाई कोस वाली कहावत चरितार्थ कर रही हैं।अब जबकि सीएम का दौरा लगातार चल रहा है तो प्रशासनिक अधिकारियों ने भी इन योजनाओं पर जोर देना शुरू कर दिया है।

इसी तरह की योजनाओं की समीक्षा बैठक करते हुए मण्डलायुक्त अनिल कुमार ने समस्त निर्माण कार्यों को समयान्तर्गत गुणवत्तापूर्ण ढंग से पूरा करने का कार्यदायी संस्था को निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री की प्राथमिकता वाले कार्यों की समीक्षा में उन्होंने पाया कि अधिक ठंड की वजह से सड़कों का निर्माण, मरम्मत का कार्य धीमा है परन्तु उन्होंने निर्देश दिया है कि मौसम ठीक होते ही मार्च तक कार्य पूरा करा लें।

समीक्षा में उन्होंने पाया कि सम्भागीय परिवहन विभाग का माडल कार्यालय निर्माण की दिशा में पिछले 6 माह में कोई प्रगति नही हुई है। इसे 7 एकड़ भूमि चाहिए जो न गीडा में मिली और न ही बाहर। इसके लिए 5 करोड़ रूपये की स्वीकृति हो गया है परन्तु भूमि एंव डिजाइन के अभाव में कार्य नही हो रहा है। इसी प्रकार नगर निगम द्वारा महेसरा में सालिड वेस्ट मैनेजमेन्ट के तहत प्लान्ट लगाया जाना है। इसके टेण्डर की कार्यवाही शुरू की गयी है।

मण्डलायुक्त ने निर्देश दिया है कि लखनऊ मार्ग पर एक और प्लान्ट लगाने के लिए भूमि तलाशें। शहर के दोनों छोर पर यह लगेगा। नन्दनगर अन्डर पास निर्माण के लिए रेलवे को रू 1.80 करोड़ दिया जा चुका है। उनके द्वारा टैण्डर की कार्यवाही की जा रही है। इसके बाद पीडब्लू्डी निर्माण कार्य करेगा।

प्राणि उद्यान/चिड़ियाघर में रिटेनिंग वाल का काम चल रहा है। 35 बाड़ा बनाने की स्वीकृति मिल गयी है। फरवरी से निर्माण शुरू हो जायेगा।इस सम्बंध में पीडब्लूडी के मुख्य अभियंता रमेश ने बताया कि मिनी एनेक्सी निर्माण के लिए भूमि समतलीकरण का काम पूरा कर लिया गया है।

बाघागाड़ा से नौसड़ तक फोरलेन सड़क निर्माण शुरू हो गया है। गोरखपुर-वाराणसी मार्ग पर मुआवज़े की धनराशि वितरण न हो पाने के कारण निर्माण धीमा है। गोरखपुर-एयरपोर्ट, गोरखनाथ मंदिर-जंगल कौड़िया 17 किमी फोरलेन निर्माण का डीपीआर भारत सरकार को स्वीकृति हेतु भेज दिया गया है।

स्वीकृतियांः-
1- गोरखपुर में हाबर्ड बांध को पिचरोड बनाने की स्वीकृति हो गयी है। इसकी लम्बाई 2 किमी0 है।
2-अनुसूचित/जन जाति के छात्र-छात्राओं के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं, आईएएस,पीसीएस की कोचिंग संस्थान के लिए 4.35 करोड़ रूपये स्वीकृत हो गया है।
3-रीजनल स्पोर्टस स्टेडियम के पुनरूद्धार एंव खेल सुविधाओं में वृद्धि के लिए 4 करोड़ रूपये स्वीकृत हुए हैं।
4- RKBK से पैडलेगंज चौैराहा तक की सड़क के लिए 18 करोड़ रूपया स्वीकृत हुआ है।

Related Posts

नौ दिन चले अढ़ाई कोस की गति से चल रहे हैं सीएम सिटी में योगी की प्राथमिकता वाले कार्य