April 18, 2018
टॉप न्यूज़

नगर निगम को नहीं मालूम, शहर में चल रही है कितनी अवैध डेयरियां

नगर निगम को नहीं मालूम  शहर में  कितनी अवैध डेयरियां

गोरखपुर: गजब खेल है, शहर में अवैध तरीके से चलने वाली डेयरियों के खिलाफ नगर निगम अब तक महज कागजों में अभियान चला रहा था। शहर में 100 से ज्यादा डेयरियां है, जो दूध दुहने के बाद पशुओं को सड़क पर छोड़ देते हैं। नगर निगम को इन डेयरियों की संख्या पता नहीं,अब वह वार्ड में सुपरवाइजरों के द्वारा बताए गए स्थान पर पहुंच- पहुंच कर कार्यवाही कर रहे हैं।

अभी तक डेयरियों के संख्या का ना तो आंकलन किया गया है और ना ही आज तक कभी सर्वे हुआ है । इससे ना सिर्फ आवागमन बाधित होता है ,बल्कि गंदगी भी फैलती है। गंदगी के कारण नालियां चोक हो जाती हैं। नगर निगम अब अवैध डेयरियों के खिलाफ व्यापक स्तर पर अभियान चलाने जा रहा है ।इस कार्य के लिए एक विशेष टीम बनाई जाएगी।

गौरतलब है कि शहर के बीचोबीच धड़ल्ले से चल रहे अवैध डेयरी फार्म आम लोगों के साथ-साथ नगर निगम के लिए भी परेशानी का सबब बनते जा रहे हैं। छुट्टा पशुओं को पकड़ने के अभियान के दौरान नगर निगम ने 45 ऐसे पशुओं को पकड़ा था, जिसे दूध दूहने के बाद सड़क पर छोड़ दिया गया था। ऐसे डेयरी संचालकों के खिलाफ नगर निगम ने अपर नगर मजिस्ट्रेट के न्यायालय में मुकदमा दर्ज कराया है। जो दूध दुहने के बाद पशुओं को सड़क पर छोड़ देते थे ।साथ ही 62 पशुपालकों को नोटिस दे दिया है। अवैध डेयरियों को लेकर अब नगर निगम सख्त हो गया है ,साथ ही उन्हें शहर से बाहर भेजने पर भी विचार हो रहा है।

इस संबंध में मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर मुकेश कुमार रस्तोगी का कहना है कि ज्यादातर डेयरी संचालक गोबर नाला नाली में डाल देते हैं। जिससे नालियां चोक हो जाती हैं। जबकि शहर में डेयरीयों का संचालन नहीं किया जा सकता।

उन्होंने बताया कि अवैध रूप से संचालित हो रही डेयरियों का सर्वे कराया जाएगा। जिससे कि शहर में चल रहे डेयरियों का सही आंकड़ा प्राप्त हो सकेगा। डेयरियों पर कार्रवाई की जा रही है। अभी वार्ड के सुपरवाइजर ही अवैध रूप से संचालित हो रहे डेयरियों का जगह बता रहे हैं और उस पर कार्रवाई की जा रही है । जो लोग शहर में अवैध रूप से डेरी संचालित करेंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। थोड़ी दूरी तक सौंदर्यीकरण कर हमें अनुभव प्राप्त होगा। इस अनुभव से सुंदरीकरण की योजना को कालेसर से नौसढ़ तक विस्तार देने में हमें सहूलियत होगी।

Related Posts

नगर निगम को नहीं मालूम, शहर में चल रही है कितनी अवैध डेयरियां