April 18, 2018
टॉप न्यूज़

सीएम सिटी के लोकसभा उपचुनाव में ईटीपीबीएस तकनीक के इस्तेमाल की योजना

गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में ईटीपीबीएस तकनीक  की योजना

गोरखपुर: गुजरात और हिमाचल में प्रयोग किए गए फार्मूले को निर्वाचन आयोग गोरखपुर लोकसभा सीट के उपचुनाव में भी लागू करेगी। सर्विस वोटर (आर्मस फोर्स के जवान व उनके परिजन जो राज्य के बाहर हो) को भेजे जाने वाले डाक मतपत्र इस बार डाक की बजाए ऑन लाइन भेजे जाएंगे। निर्वाचन विभाग ने इसकी तैयारी पूरी कर ली है।

बता दें कि भारत निर्वाचन आयोग ने लोकसभा और विधानसभा के उपचुनाव में सर्विस वोटर्स के लिए ईटीपीबीएस( इलेक्ट्रॉनिकली ट्रांसमीटर पोस्टल बैलेट सर्विस) तकनीक का इस्तेमाल करने की योजना बनाई है। आयोग का मानना है कि इससे मतदान प्रक्रिया में लगने वाला समय आधा हो जाएगा। प्रथम चरण में यह प्रक्रिया वनवे होगी, इसके सफल होने के बाद इसे टू वे करने पर विचार किया जाएगा।

गोरखपुर के सांसद महंत योगी आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद खाली हुई इस संसदीय सीट पर होने वाले उपचुनाव में भी इस तकनीकी का इस्तेमाल करने का निर्णय हुआ है। इसके तहत यहां के सभी सर्विस वोटरों को पोस्टल बैलेट इस बार इ सिस्टम से भेजे जाने की योजना है। गोरखपुर के सर्विस वोटर के लिए इस सिस्टम से मतदान प्रक्रिया शुरू करवाने से पहले सर्विस वोटर की मतदान था।जिसकी सूची का पुनः निरीक्षण कराया गया है। इसके तहत गोरखपुर में 4639 सर्विस वोटर चिन्हित किए गए हैं।

चुनाव प्रक्रिया शुरू होने के बाद मैदान में उतरे प्रत्याशियों की नाम वापसी के 48 घंटे बाद रिटर्निंग ऑफिसर ईसीआई की वेबसाइट से पोस्टल बैलेट जनरेट करेंगे। इस प्रक्रिया में जितने भी सर्विस वोटर होंगे ।सभी की अलग-अलग PDF फाइल तैयार होगी । इस PDF मतपत्र को डाउनलोड करने के सर्विस वोटर अपने पसंदीदा प्रत्याशी के नाम के आगे पेन से सही का निशान लगाकर अपना मत पत्र डाक से संबंधित रिकॉर्ड ऑफिस के जरिए संबंधित विधानसभा को रिटर्निंग ऑफिस को भेज देगे।

अपर जिलाधिकारी प्रशासन प्रभुनाथ ने बताया कि गोरखपुर के सभी सर्विस वोटर के पुनः निरीक्षण का कार्य पूर्ण कर लिया गया है।इनकी संख्या 4000 से अधिक है । सभी सर्विस वोटर्स इस बार इ सिस्टम के जरिए ऑनलाइन पोस्टल बैलेट के जरिए अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

Related Posts

सीएम सिटी के लोकसभा उपचुनाव में ईटीपीबीएस तकनीक के इस्तेमाल की योजना