April 18, 2018
महराजगंज

महराजगंज में बरगदवां थाने का रिश्वतखोर SO हुआ लाइनहाजिर

महराजगंज में बरगदवां के घूसखोर थानेदार ने  मुकदमा दर्ज नही होने दिया।

महराजगंज: ढ़ाई महीने तक नारायणपुर गांव की इमरती देवी कोर्ट का आदेश लिये भटकती रही लेकिन पांच हजार की रिश्वत न मिलने के कारण बरगदवां के घूसखोर थानेदार ने इस गरीब महिला का मुकदमा दर्ज नही होने दिया। नतीजन इस मनबढ़ थानेदार पर पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह ने बरगदवां के घूसखोर थानेदार अनिल कुमार को लाइन हाजिर करते हुए उसके साथी मुंशी वीरेन्द्र मिश्रा को निलंबित कर दिया है।

बता दें कि बरगदवा थानाक्षेत्र के नरायनपुर गांव की महिला इमरती देवी अपने एक ज़मीन के मामले में कोर्ट का आदेश लेकर एफआईआर दर्ज कराने के लिए ढाई महीने तक बरगदवा थाने का चक्कर काटती रही। किंतु थानेदार अनिल कुमार प्राथमिकी दर्ज करने के एवज में बार-बार पांच हज़ार रुपये की मांग करता रहा। थकहार कर इमरती ने डीजीपी का दरवाजा खटखटाया।

इसके तत्काल बाद डीजीपी मुख्यालय हरकत में आया और नौतनवा के सीओ को इसकी जांच सौंप रिपोर्ट मांगी। उसके बाद यह घूसखोर थानेदार अपने बचाव में तरह-तरह की झूठी दलीलें देने लगा। किंतु गुमराह करने वाली थानेदार की झूठी दलीलें उसकी कुर्सी नही बचा पायी।

दो दिन पहले उक्त थानेदार ने एसपी को ठूठीबारी से चोरी हुई एक पिकअप गाड़ी के बारे में गुमराह करने का भी काम किया था। जैसे ही कप्तान को गाड़ी चोरी की खबर पता लगी। उन्होंने तत्काल बरगदवां, परसामलिक, नौतनवा आदि थानेदारों को अलर्ट किया कि वे तत्काल सघन चेकिंग करें। लेकिन यह रिश्वतखोर दरोगा कप्तान की बात तक नही माना और थाने के अंदर ही बैठा रहा। जबकि मुंशी वीरेन्द्र मिश्रा वायरलेस पर गुमराह करता रहा कि थानेदार चेकिंग अभियान पर है।

इन सबसे आजिज आकर जिले के कप्तान आरपी सिंह का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। और एक ही झटके में ही एसओ अनिल कुमार को लाइन हाजिर करते हुए सहयोगी मुंशी को निलम्बित कर दिया।

राजेश होंगे बरगदवा के नये थानेदार

श्यामदेउरवा थाने में तैनात रहे उपनिरीक्षक राजेश कुमार पर अब एसपी ने अपना भरोसा जताया है और उसे बरगदवां का नया थानाध्यक्ष बनाया है।

Related Posts

महराजगंज में बरगदवां थाने का रिश्वतखोर SO हुआ लाइनहाजिर