April 18, 2018
टॉप न्यूज़

ग्राम प्रधानों के सम्मेलन में बोले सीएम योगी, जब तक गंभीर मामले ना हो प्रधानों के खाते न हो सीज

ग्राम प्रधानों के सम्मेलन में बोले सीएम योगी

गोरखपुर: प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया है कि गंभीर परिस्थितियों को छोड़कर ग्राम प्रधानों का खाता सीज न किया जाये। ग्राम प्रधान निर्वाचित प्रतिनिधि है और स्वतंत्रता पूर्वक कार्य करने दिया जाये।

राष्ट्रीय पंचायती राज ग्राम प्रधान संगठन के तत्वाधान में ग्राम प्रधानों के एक दिवसीय सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्राम सभा की खुली बैठक में ग्राम के विकास की रणनीति बनाई जाये।

उन्होंने निर्देश दिया है कि जिन गांव में कोटेदार नही है वहां एक माह में कोटेदार की तैनाती हो जाये। मुसहर, वनटांगिया एंव प्राकृतिक आपदा से प्रभावित परिवार के पक्के आवास का सर्वे कर लिया जाये। सभी नागरिकों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध हो सके इसके लिए सभी इंडिया मार्क-2 हैण्डपम्प मरम्मत करा दिये जाये।

योगी ने कहा कि सरकार ने यह निर्णय लिया है कि 2 अक्टूबर 2018 तक सभी गांव को खुले में शौचमुक्त किये जायें। इसके लिए 30 लाख शौचालय बनवाये गये हैं। हर गांव को पक्के मार्ग से जोड़ा जायेगा। सेना में भारत मां की सेवा करते हुए शहीद के गांव को शहीद गांव का दर्जा दिया जायेगा, उसके नाम पर गौरव पथ तथा प्रवेश द्वार बनाया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्राम प्रधान के अधीन वर्तमान में 15 विभाग कार्य कर रहे है। स्मार्ट सिटी के तर्ज पर स्मार्ट गांव बनाया जायेगा। प्रदेश के सभी 60 हजार गांव को आप्टिकल फाइवर से जोड़ा जायेगा ताकि ग्राम्य सचिवालय तेजी से काम कर सके। उन्होंने कहा कि सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि किसी विभाग द्वारा ग्राम प्रधान का उत्पीड़न न हो, यदि कोई घटना प्रकाश में आती है तो त्वरित कार्यवाही की जायेगी। सरकार हर स्तर पर ग्राम प्रधानों का सहयोग करने के लिए तैयार है।

उन्होंने ग्राम प्रधानों से अपील किया कि अप्रैल माह में संचालित होने वाले स्वच्छता अभियान/जेई, एइएस का टीकाकरण अभियान स्कूल चलों अभियान में सक्रिय सहयोग करें। ग्राम के प्रत्येक गरीब व्यक्ति को राशन कार्ड उपलब्ध कराकर खाद्यान्न दिलवायें, ताकि किसी की भूख से मृत्यु न हो। यदि कोई बीमार है और गरीब है तो ग्राम निधि से एक हजार रूपये की मदद कर सकते हैं।

योगी ने ग्राम प्रधानों से अपील किया कि प्रत्येक गांव में कम से कम एक युवक/युवती को रोजगार से जोड़े। महिलाओं का स्वंय सहायता समूह गठित करके उन्हें स्वावलम्बन की ओर ले जायें। ओवरहेड टेंक से वाटर सप्लाई होने पर प्रत्येक परिवार को पानी का कनेक्शन दिलायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि चौैदहवें वित्त आयोग द्वारा ग्राम सभाओं को विकास के लिए पर्याप्त धनराशि दी जा रही है। पारदर्शी ढंग से कार्य करते हुए गांव मे प्रत्येक नागरिक को मूलभूत सुविधा उपलब्ध करायें। इस अवसर पर मुख्यमंत्री को संगठन द्वारा गदा भेंट की गयी।

प्रदेश के पंचायती राज एंव लोक निर्माण विभाग राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार भूपेन्द्र चौैधरी ने कहा कि ग्राम प्रधानों की क्षमता संवर्धन के लिए प्रशिक्षण का आयोजन किया जायेगा। व्यक्तिगत शौचालय निर्माण में प्रदेश पूरे भारत में प्रथम स्थान पर है।

प्रदेश के ग्राम्य विकास, चिकित्सा एंव स्वास्थ्य राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार डा0 महेन्द्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़कें अब प्लास्टिक, जूट,नैनों टेक्नोलोजी से बनाई जायेगी। इस वर्ष 1829 किमी सड़क इसके अनुसार बनाई जायेगी। उन्होंने बताया कि मनरेगा में मजदूरों को आधार लिक करने, जी0ओ0 टैगिंग करने में प्रदेश प्रथम स्थान पर है।

समारोह को विधायक शीतल पाण्डेय,विपिन सिंह, कार्यक्रम के संयोजक कृष्ण चन्द्र वर्मा ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर महापौर सीता राम जायसवाल, प्रदेश के ग्राम्य विकास प्रमुख सचिव अनुराग श्रीवास्तव,आयुक्त पार्थसारथीसेन शर्मा, निदेशक पंचायती राज आकाशदीप, मण्डलायुक्त अनिल कुमार, जिलाधिकारी राजीव रौतेला तथा ग्राम प्रधान संगठन के जिलाध्यक्ष प्रहलाद सिंह,ललित शर्मा, रवीन्द्र राय,छोटे लाल मण्डल एंव जिले के ग्राम प्रधान गण उपस्थित रहे।

Related Posts

ग्राम प्रधानों के सम्मेलन में बोले सीएम योगी, जब तक गंभीर मामले ना हो प्रधानों के खाते न हो सीज