April 18, 2018
देवरिया / कुशीनगर

देवरिया में आत्मदाह कर रहे युवक को जनता ने बचाया, मूक दर्शक बनी रही पुलिस

देवरिया में आत्मदाह कर रहे युवक को जनता ने बचाया

देवरिया: जिले में आज अपनी मांगों के समर्थन में आत्मदाह कर रहे युवक को स्थानीय लोगों ने बचाया। गम्भीर हालत में घायल युवक को गोरखपुर मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया है।

एम्बुलेंस चालकों का कहना है कि जिला अस्पताल में हम लोग अपनी प्राइवेट एम्बुलेंस को खड़ी कर मरीजों को ले जाने तथा ले आने का कार्य करते थे।पीड़ित एम्बुलेंस चालकों का कहना है कि 23 जनवरी को प्रशासन द्वारा पीड़ित एम्बुलेंस चालकों की 16 एम्बुलेंस वाहन को चालान करा दिया गया था।

देवरिया आत्मदाह

देवरिया आत्मदाह

एम्बुलेंस चालकों का आरोप है कि हम लोगों को अस्पताल परिसर से एम्बुलेंस खड़ा करने से मना कर दिया था। जिस पर एम्बुलेंसों को अस्पताल परिसर के बाहर खड़ी करके हम लोग कार्य कर रहे थे।

इस सम्बन्ध में एम्बुलेंस चालकों ने नगरपालिका परिषद् देवरिया से मिलकर अपनी फरियाद किया था। लेकिन काई कार्रवाई होता न देख एम्बुलेंस चालक पुनीत होरा ने जिला प्रशासन को आगाह कर चेतावनी दी थी कि अगर हम लोगों की मांग नहीं मानी जाती है तो आज 12 बजे दिन में अस्पताल गेट पर मिट्टी का तेल छिड़कर आत्म दाह करेंगे।

बताया जाता है कि मिट्टी का तेल और पेट्रोल पुनीत होरा के शरीर में जाने से वह बीमार हो गया और उसको जिला अस्पताल के आपातकालीन चिकित्सा कक्ष में ले जाया गया।जहां डाक्टरों ने उसका प्राथमिक उपचार कर गोरखपुर मेडिकल कालेज रेफर कर दिया।

इतनी बड़ी घटना के करीब 45 मिनट बाद सदर क्षेत्राधिकारी सीता राम, एसडीएम राकेश सिंह और सदर कोतवाल पहुंचे। इस सम्बन्ध में जब सीओ सीताराम से पूछा गया कि इतनी बड़ी घटना घट रही थी और एल आई यू के लोग मौके पर खड़े थे। इसके साथ ही 100 डायल पुलिस भी थी।लेकिन वो लोग मूक दर्शक बने थे तो इसके जवाब में सीओ सीताराम मौन साध गये।

देवरिया आत्मदाह

देवरिया आत्मदाह

एसडीएम का कहना है कि जिलाधिकारी के निर्देश पर प्राइवेट ऐम्बुलेंस चालकों को अस्पताल परिसर और उसके आसपास से हटवाया गया था तथा कुछ एम्बुलेंसों का चालान भी कराया गया था। अगर इन लोगों की कोई समस्या थी तो ये जिलाधिकारी से मिलकर अपनी बात कहते लेकिन ये एम्बुलेंस चालक सड़क जाम कर अराजकता पैदा करना चाहते थे। हमारे द्वारा चालकों से कहा गया है कि उनके प्रतिनिधि मंडल के दो लोग कल जिलाधिकारी से मिलकर अपनी समस्या कहे।

इसी क्रम में एम्बुलेंस चालक जिला अस्पताल गेट पर जिला प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर रास्ता जाम कर दिये। मौके पर स्थानीय प्रशासन और पुलिस के न पहुंचने पर पीड़ित एम्बुलेंस चालक पुनीत होरा ने अपने शरीर पर मिट्टी का तेल छिड़कर आग लगाने का प्रयास किया। जिसकों स्थानीय लोगों ने उसे जलने से बचा लिया।

Related Posts

देवरिया में आत्मदाह कर रहे युवक को जनता ने बचाया, मूक दर्शक बनी रही पुलिस