April 18, 2018
टॉप न्यूज़

VIDEO: सुनिए और देखिये किस कदर परेशान हैं BJP कार्यकर्ता, मंत्री के सामने ही सुनाई खरी-खोटी

गोरखपुर: प्रदेश सरकार और उनके मंत्रियों पर विपक्षी पार्टियां तंज कसे तो सत्ता पक्ष इसे महज विरोधी दलों का बौखलाहट में एक बयान कहकर बात से पल्ला झाड़ लेती है लेकिन जब पार्टी के ही कार्यकर्त्ता अपने ही मंत्री को खरी-खोटी सुनाने लाइन तो उसे फिर क्या कहा जाएगा।

घटना पडोसी जनपद संतकबीरनगर की है। जिले के प्रभारी मंत्री आशुतोष टंडन हैं। एक बैठक के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने मंत्री जी को प्रदेश सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए जम कर खरी-खोटी सुनाते हुए उनको आइना दिखा दिया। एक कार्यकर्त्ता ने कहा कि आप बड़े परिवार से आते हैं, आपके पास हर तरह के ऐशो आराम के साधन हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि सरकार बनने के एक साल गुजरने के बाद आज भी बीजेपी कार्यकर्ता परेशान है। इसीलिए आपके आने पर कोई भी कार्यकर्ता आपके स्वागत में आना नहीं चाहता।

आपको बता दें कि संतकबीरनगर जिले के प्रभारी मंत्री व प्रदेश सरकार के राज्यमंत्री आशुतोष टंडन खलीलाबाद शहर स्थित डाक बंगले पर बीजेपी कार्यकर्ताओं और प्रतिनिधियों से मुलाकात के लिए पहुंचे थे। उनके स्वागत के लिए जिले के DM से लेकर सभी विभाग के अधिकारी भी मौजूद थे। लेकिन कार्यकर्ताओं से मीटिंग के दौरान मंत्री जी के सामने कुर्सियां खाली पड़ी थी और थोड़े बहुत कार्यकर्ता ही पहुंचे थे।

उनमें से एक बीजेपी के जिला मंत्री दयाराम कनौजिया ने मंत्री जी को खरी-खरी सुना डाली और कहा कि आपके पास तो सारी सुख सुविधाएं हैं। लेकिन कार्यकर्ताओं के पास कुछ भी नहीं है। आज कार्यकर्ताओं की हालत ऐसी हो गई है कि वह चलने लायक नहीं है। आप आते हैं लेकिन आप के स्वागत में कोई भी कार्यकर्ता आना नहीं चाहता, यही सच्चाई है।

इतना ही नहीं BJP के जिला मंत्री दयाराम कनौजिया ने सपा व बसपा के सरकार की तारीफ भी कर डाली और कहा कि अगर सपा-बसपा की सरकार होती तो कार्यकर्ता स्वागत के लिए यहां से लखनऊ तक पहुंच जाते। लेकिन आज आप के स्वागत के लिए भी लोग आना नहीं चाहते यही कड़वी सच्चाई है। जिसके थोड़ी देर बाद ही मंत्री जी नाराज हुए और उठ कर जाने लगे और उन्होंने इतना कहा कि आप लोग तथ्य के साथ लिखित देंगे तभी कुछ अपेक्षा रखिए।

Related Posts

VIDEO: सुनिए और देखिये किस कदर परेशान हैं BJP कार्यकर्ता, मंत्री के सामने ही सुनाई खरी-खोटी