April 18, 2018
गोरखपुर

यूपी बोर्ड की परीक्षाएं प्रारंभ, नक़ल विहीन परीक्षा कराने को प्रशासन ने कसी कमर

यूपी बोर्ड की परीक्षाएं  प्रारंभ

गोरखपुर: प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्य नाथ के गृह जनपद गोरखपुर जिले के अधिकारियों ने बोर्ड परीक्षा नक़ल विहीन कराने को कमर कस ली है। यूपी बोर्ड परीक्षा पर नजर रखने के लिए प्रशासन ने जहाँ मजिस्ट्रेटों की तैनाती कर दी है।वही हर सेंटर पर सीसीटीवी कैमरे से भी परीक्षा देने वाले छात्रों पर नजर प्रशासन बना कर रखेगा।

बता दें कि यूपी बोर्ड की हाईस्कूल/इंटरमीडिएट की परीक्षाएं कल 6 फरवरी से प्रारम्भ हो रही है।माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित इस परीक्षा में गोरखपुर जिले में कुल 209 परीक्षा केंद्र बनाये गए है । यूपी बोर्ड की इस परीक्षा में जिले में 93483 छात्र हाई स्कुल में व इंटरमीडिएट में 76574 छात्र छात्राये भाग लेंगे। वहीँ परीक्षा को सकुशल सम्पन्न कराने को हर ब्लाक के बीडीओ, तहसीलदार व अन्य अधिकारियों को सेक्टर और उपजिलाधिकारियों को जोनल मजिस्ट्रेट बनाया गया है। ये सभी मजिस्ट्रेट तहसील और ब्लाक स्तर पर परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण करेंगे।

जबकि जिला स्तर पर सचल दलों की तैनाती के बाद सेक्टर और ब्लाक स्तर पर सचल दल की तैनाती की गई है, इसके लिए प्रशासन ने हर तहसील के परीक्षा केंद्रों को सेक्टर में बांट दिया है और हर दो सेक्टर पर एक-एक जोनल मजिस्ट्रेट की तैनाती की गई है।इस हिसाब से 23 सेक्टर और 11 जोनल मजिस्ट्रेट की तैनाती हुई है।सदर तहसील के अंतर्गत आने वाले परीक्षा केंद्रों को आठ सेक्टरों में बांटते हुए चार जोनल मजिस्ट्रेट तैनात किए गए हैं।

चौरी चौरा तहसील को दो, गोला तहसील को तीन, बासगांव तहसील को दो, सहजनवां तहसील को दो, खजनी तहसील को चार और कैम्पियरगंज तहसील को दो सेक्टरों में बांटते हुए इन तहसीलों के उप जिलाधिकारियों को जोनल मजिस्ट्रेट बनाया गया है। इनके अलावा जिले स्तर से चार सचल दलों की तैनाती पहले ही की जा चुकी है।जो पूरे जिले के परीक्षा केंद्रों का दौरा करेंगे।12 अतिरिक्त केन्द्र व्यवस्थापक बनाए गये है।

इस सम्बंध में जिला विद्यालय निरीक्षक ज्ञानेन्द्र प्रताप सिंह भदौरिया ने बताया कि बोर्ड परीक्षा के दौरान किसी केंद्र पर केंद्र व्यवस्थापक के साथ समस्या आने पर उनकी जगह दूसरे को भेजने के लिए अतिरिक्त 12 केंद्र व्यवस्थापकों की तैनाती की है।

Related Posts

यूपी बोर्ड की परीक्षाएं प्रारंभ, नक़ल विहीन परीक्षा कराने को प्रशासन ने कसी कमर