April 18, 2018
बस्ती

बस्ती: मोबाइल फ़ोन है बैन फिर भी जेल में खूब चल रहा सेल्फी-सेल्फी का खेल

बस्ती जेल में खूब चल रहा सेल्फी-सेल्फी का खेल

बस्ती: यूपी सरकार जहां अपराधियो को सुधारने को जेल के अंदर भेज रही है, वहीं कैदी मौज मस्ती के साथ सजा पूरी कर रहे हैं। जेल के अंदर बंद कैदियो के पास मोबाईल की भरमार है। मोबाईल के जरिये कैदी अपराध की साजिश रचने मे लगे हुये हैं और आये दिन जेल से रंगदारी मांग रहे हैं। लेकिन हद तब हो गई जब जरायम की दुनिया मे अपनी हनक कायम करने के लिए जेल मे बंद अपराधी अब अपनी सेल्फी लेकर फेसबुक पर अपलोड कर रहे हैं। जो जेल के अंदर मोबाइल यूज के प्रमाणित सबूत दे रहा। बस्ती जेल में बंद चार कैदियो ने न केवल सेल्फी और फोटो ली बल्कि उसे विशाल उपाध्याय नाम की फेसबुक आईडी से अपलोड कर दिया और कैप्सन में लिखा गया कि माफिया। जिस विशाल उपाध्याय के फेसबुक आईडी से जेल के अंदर की फोटो पोस्ट की गई है वह भी हत्या के मामले में बंद है। सब से बड़ा सवाल यह उठता है कि आखिर इन कैदियों के पास मोबाइल आया कहां से।

सजा काट रहे कैदियो के हौसले इतने बुलंद हैं कि वे जेल प्रशासन की मिलीभगत से नियमो को ताक पर रख रहे हैं। जेल के जिम्मेदार सब कुछ जानने के बाद भी चुप्पी साधे हैं, क्योकि कैदियो के मोबाईल देने के बदले उन्हे मोटी रकम मिलती है।

बता दें कि बस्ती जेल में लगभग 450 कैदियो की क्षमता है जबकि यहां 1000 कैदी बंद हैं। जिनमे से अधिकतर और शातिर कैदीयो के पास मोबाईल है और वे जेल के अंदर से ही बाहर जरायम की दुनिया मे अपना सिक्का चला रहे हैं। शायद यही वजह है कि प्रदेश मे अपराधी जेल के अंदर पहुंच तो रहे हैं मगर वे अपराध करना नहीं छोड रहे क्यो कि उन्हे जेल के अंदर भी सुख सुविधाएं आसानी से मिल जा रही हैं।

वहीँ इस सम्बन्ध में अनिल कुमार डिप्टी जेलर बस्ती जेल का कहना है की यह फोटो मुलाकात के दौरान ली गई लगती है। मामले की जांच कराई जाएगी जेलर ने कहा कि गेट पर कड़ी जांच होती है,मगर फिर भी यह सम्भव है की कोई चकमा देकर मोबाइल ले जा सकता है।

Related Posts

बस्ती: मोबाइल फ़ोन है बैन फिर भी जेल में खूब चल रहा सेल्फी-सेल्फी का खेल