April 18, 2018
टॉप न्यूज़

गोरखपुर उपचुनाव: योगी के गढ़ में ललकार सकते हैं अखिलेश और आजम

गोरखपुर उपचुनाव

गोरखपुर: गोरखपुर उपचुनाव की घोषणा हो चुकी है और सभी दलों द्वारा अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले गए हैं ,किंतु यह भी सत्य है कि यह उपचुनाव जहां भाजपाइयों के लिए नाक का सवाल है तो वहीं प्रमुख विरोधी दल समाजवादी पार्टी भी सीएम के गढ़ में उन्हें घेरने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी। आशा जताई जा रही है कि इस गोरखपुर उपचुनाव में जनता की दुखती रग पर हाथ रखकर अपने पाले में लाने की कोशिश में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और पूर्व मंत्री मोहम्मद आजम खान गोरखपुर में जनसभाएं करेंगे।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री के शहर केे नाम से प्रसिद्धि पा रहे गोरखपुर की संसदीय सीट पर चुनाव आयोग ने आगामी 11 मार्च को चुनाव की घोषणा कर दी है ।जिसके लिए भारतीय जनता पार्टी समेत सभी दल अपनी अपनी रणनीति बनाने में लग गए हैं ।अब कहा जाए तो सीएम को उनके ही शहर में वाकयुद्ध के माध्यम से घेरने के लिए समाजवादी पार्टी पूरी तरह से जुट गई है।

इसके लिए जिला और महानगर स्तर के पदाधिकारियों को जिम्मेदारियां भी सौंप दी गई हैं। अब इन जिम्मेदारियों को सौंपने के बाद पार्टी के बड़े चेहरे भी गोरखपुर का दौरा कर संबंधित क्षेत्रों में जनता को केंद्र और प्रदेश सरकार की नीतियों को गलत बताते हुए उनके दुखते रग पर हाथ रख सहानुभूति का मल्हम लगाकर वोट बैंक को अपने पाले में करने की भरपूर कोशिश करेंगे।

इस बात का संकेत कल जनपद के दौरे पर आए समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने बातों-बातों में दे दिया है, कि बड़े नेता जल्द ही गोरखपुर में चुनावी जनसभाएं करेंगे। इसके पूर्व हुए विधानसभा चुनाव में जब समाजवादी पार्टी कांग्रेस के साथ चुनावी मैदान में उतरी थी और बुरी तरह हार का सामना की।

अब इसको दृष्टिगत रखते हुए समाजवादी कार्यकर्ता आमजन से मेलजोल और तेज कर दिए हैं ।साथ ही साथ उपचुनाव को लेकर सपा के बेतियाहाता स्थित जिला कार्यालय पर रोज-रोज कार्यकर्ताओं की बढ़ती भीड़ उनके जोश-खरोश को दर्शा रही है। पार्टी कार्यकर्ताओं के मुताबिक अभी तक गोरखपुर में दौरा कर जनसभाएं करने वाले नेताओं में राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव तथा पूर्व नगर विकास मंत्री आजम खान का नाम सामने आ रहा है।

Related Posts

गोरखपुर उपचुनाव: योगी के गढ़ में ललकार सकते हैं अखिलेश और आजम