April 18, 2018
गोरखपुर

होली की परम्परागत नरसिंह यात्रा का हिस्सा बनेंगे सीएम योगी आदित्यनाथ

गोरखपुर: प्रदेश का मुख्य मंत्री बनने के बाद गोरक्ष पीठाधीश योगी आदित्यनाथ की यह पहली होली है। वह महानगर की परम्परागत नरसिंह यात्रा के अलावा होली के अवसर पर होने वाले अन्य पारंपरिक आयोजनों में हिस्सा लेने के लिए होली से एक दिन पहले यानी गुरुवार को ही गोरखपुर आ जाएंगे।

इस बात की जानकारी उन्होंने बुधवार को गोरखनाथ मंदिर से लखनऊ रवाना होने से पहले न केवल मंदिर प्रबंधन को बल्कि उन सभी संस्थाओं को भी दे दी है। जिनके आयोजनों में वह पिछले दो दशक से पूरे उत्साह के साथ हिस्सा लेते रहे हैं।

गौरतलब है कि बीते कई वर्षों से महानगर की परम्परागत होली के अवसर पर भगवान नरसिंह की शोभायात्रा निकलती है।जो योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में निकलती है। किंतु अबकी बार योगी के सीएम बनने के बाद सुरक्षा कारणों से इस शोभायात्रा पर संशय के बादल मंडरा रहे थे।किन्तु अब वह भी छंट गया है।

कार्यक्रम के मुताबिक होली से एक दिन पहले यानी गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ लखनऊ से आने के बाद सबसे पहले गुलरिहा जाएंगे और वहां आयोजित होने वाली भगवान नरसिंह की शोभा यात्रा में हिस्सा लेंगे। कार्यक्रम के मुताबिक शोभा यात्रा में शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री ने दोपहर बाद 3 से 3:30 बजे का समय दिया है।
मुख्यमंत्री इस कार्यक्रम में पिछले दो दशक से हिस्सा लेते रहे हैं।

इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शहर में पांडेयहाता के उस स्थान पर जाएंगे, जहां परंपरागत रूप से होलिका दहन उत्सव का आयोजन होना है। उत्सव समिति के महामंत्री के मुताबिक मुख्यमंत्री शाम पांच बजे आयोजन स्थल पर पहुंचेंगे और इस अवसर पर निकलने वाली शोभा यात्रा को अपने हाथों से न केवल रवाना करेंगे बल्कि पांडेयहाता से लेकर घंटाघर तक वह यात्रा में स्वयं भी शामिल रहेंगे। करीब एक दर्जन जीवंत झांकियों के साथ निकलने वाली यह शोभा यात्रा पांडेयहाता से चलकर घंटाघर,मदरसा चौक, लाल डिग्गी,घासीकटरा, जाफरा बाजार, बेनीगंज, आर्यनगर, बक्शीपुर, नखास चौक, रेती चौक घंटाघर होते हुए वापस पांडेयहाता पहुंचकर थमेगी।

जहां होलिका दहन का आनुष्ठानिक कार्यक्रम सम्पन्न किया जाएगा।होली के दिन की भगवान नरसिंह की शोभा यात्रा में हिस्सा लेने के पहले मुख्यमंत्री योगी मंदिर परिसर में अपनी परंपरागत पूजा के बाद परिसर में जलने वाली सम्मत की राख को अपने माथे से लगाएंगे और फिर गुरु गोरक्ष मंदिर के चबूतरे पर मंदिर के लोगों संग फगुआ गाएंगे।

यही सिलसिला आगे बढ़ेगा और वह सात दशक से अधिक समय से आयोजित हो रहे परंपरागत नरसिंह शोभा यात्रा की अगुवाई करने के लिए सुबह 8:30 बजे घंटाघर पहुंचेंगे। शोभा यात्रा से पहले मुख्यमंत्री का होली में सद्भाव बनाए रखने को लेकर संबोधन होगा। गीत और प्रार्थना कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री योगी भगवान नरसिंह की महाआरती करेंगे और फिर शोभायात्रा रथ पर सवार होंगे। रंग-गुलाल खेलते हुए शोभा यात्रा का प्रस्थान होगा।

यह शोभा यात्रा घंटाघर से निकलकर मदरसा चौक, लालडिग्गी, मिर्जापुर, घासी कटरा, जाफरा बाजार,चरण लाल चौक, आर्यनगर, बक्शीपुर, नखास चौक, रेती चौक होते हुए घंटाघर लौटकर सम्पन्न होगी।होली की शाम गोरखनाथ मंदिर में मंदिर प्रबंधन की ओर से होली मिलन समारोह का आयोजन किया जाना है। यह कार्यक्रम भी परंपरागत है। इस अवसर पर आमंत्रित सदस्यों को मुख्यमंत्री अबीर-गुलाल लगाकर होली की बधाई और शुभकामना देंगे।

मंदिर प्रबंधन के मुताबिक यह समारोह दोपहर बाद 3:30 बजे आयोजित होगा। इस दौरान होली गीतों से मंदिर परिसर गुलजार रहेगा।

Related Posts

होली की परम्परागत नरसिंह यात्रा का हिस्सा बनेंगे सीएम योगी आदित्यनाथ