April 18, 2018
गोरखपुर

31150 लाख की लागत से नगर निगम कराएगा विकास कार्य

31150 लाख की लागत से नगर निगम कराएगा विकास कार्य

गोरखपुर: नगर निगम की कार्यकारिणी समिति की तृतीय बैठक रविवार को आयोजित की गयी। जिसमें महानगर में ठप्प पड़े विकास कार्यो को कराने का निर्णय लिया गया। इसमें आय-व्ययक अनुमान (वित्तीय वर्ष 2018-19) प्राप्तियों का अनुमान रू 29000.00 लाख तथा व्यय अनुमान 31150.00 लाख पास किया गया। रविवार को आयोजित नगर निगम की कार्य समिति बैठक में महापौर सीताराम जायसवाल की अध्यक्षता में विगत 25 जनवरी के बैठक में कार्यवाही की सर्वसम्मति से पुष्टि की गयी।

विगत 6 माह से निर्वाचन आदि के कारण विकास कार्य नहीं कराया गया था। उसी को ध्यान में रखते हुए निर्णय लिया गया कि अति आवश्यक सड़क मरम्मत, क्रास नाली मरम्मत आदि के कार्यो के लिए प्रत्येक वार्ड में 10-10 लाख रूपये के कार्य कोटेशन के माध्यम से स्वीकृत कराकर शीघ्र करा दिया जाए। पार्षदों ने रिवाल्विंग फंड लेने से मना कर दिया। यह फंड ऋण के रूप से कार्यो को कराने के लिए शासन देता है। इसके साथ ही विभिन्न कार्यो पर भी चर्चा कर जल्द से जल्द कार्यो को पूर्ण कराने का निर्णय लिया गया।

कार्यकारिणी द्वारा बैठक में लिए गये अन्य निर्णयों में महानगर में स्थित सभी नर्सिंग होम, मैरेज हाल, गेस्ट हाउस आदि ऐसे व्यवसायिक प्रतिष्ठान एवं काम्प्लेक्स आदि जहां अधिक संख्या में वाहनों का आवागमन होता है। उनकी पार्किंग की व्यवस्था सम्बन्धित भवन स्वामी से ही कराये जाने हेतु नियमानुसार कार्यवाही करते हुए पार्किंग व्यवस्था सुनिश्चित कराया जाए।

महानगर में स्थित सभी नर्सिंग होम, मैरेज हाल, गेस्ट हाउस आदि ऐसे व्यवसायिक प्रतिष्ठान एवं काम्प्लेक्स आदि जांच कराकर जिसका वार्षिक मूल्यांकन कम हो, अथवा छूट गये हो, उनकी जांच कराकर नियमानुसार कर निर्धारण कराया जाए।महानगर के सभी कर दाताओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए हाउस टैक्स, वाटर टैक्स एवं सीवर टैक्स के बकाया धनराशि का एकमुश्त जमा करने पर ब्याज में 50 प्रतिशत की छूट 31 मार्च तक (यह छूट सरकारी भवनों पर लागू नहीं होगी) प्रदान की गयी तथा यह भी निर्देशित किया गया कि वार्डो में कैम्प लगाकर वसूली की जाए। आय-व्ययक अनुमान (वित्तीय वर्ष 2018-19) जिसमें प्राप्तियों का अनुमान रू 29000.00 लाख तथा व्यय अनुमान 31150.00 लाख है। सर्वसम्मति से प्रस्ताव स्वीकृत किया गया।

नगर निगम के निर्माण/स्वास्थ्य विभाग के जितने भी वाहन जैसे-जेसीबी डम्पर, ट्रक, टैक्ट्रर आदि वाहनों पर नगर निगम द्वारा वाहन चालक की तैनाती की गयी है उनका नाम, फोटो, मोबाइल नम्बर विभाग का नाम वाहन पर ही लिखवा दिया जाए जिससे कोई दुर्घटना होने पर वह व्यक्ति ही जिम्मेदार हो।विकास प्राधिकरण एवं अन्य प्राइवेट संस्था द्वारा जो भी कालोनियां विकसित की गयी है उसको कैम्प लगाकर उन्हे टैक्स के दायरे में लाया जाए।

महानगर में मच्छरों से मुक्ति हेतु प्रत्येक वार्ड में एक साइकिल माउण्टेड मशीन जिसमें 10 लीटर डीजल, 2 लीटर पेट्रोल, 200 एमएल दवा के साथ सप्ताह के 5 दिन लगातार फागिंग कराया जाए तथा सम्बन्धित पार्षद के निर्देशन में फागिंग कराया जाए।

महानगर के सभी छोटे-बडे नाली/नालियों की वर्षा से पूर्व तल्लीझाड सफाई कराने का निर्णय लिया गया।महानगर सभी वार्डो में जिन पोलों पर कलैम्प एवं अन्य कोई पथ प्रकाश बिन्दु नहीं लगाये गये है। उनका सर्वे कराकर पथ प्रकाश बिन्दु लगाने की कार्यवाही शीघ्र किया जाए।स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत व्यक्तिगत शौचालय हेतु यह शिकायत प्राप्त हुई कि बहुत से पात्र लाभार्थियों के खाते में शासन द्वारा निर्धारित धनराशि नहीं भेजी गयी है।उसकी जांच कराकर शीघ्र खातों में भेजवाया जाए।

शासन द्वारा राजस्व निरीक्षक के पद पर तैनात समस्त राजस्व निरीक्षकों के टैक्स के कार्य हेतु वार्ड आवंटित करते हुए कर निर्धारण, करारोपण, नामान्तरण एवं कर वसूली हेतु उत्तर दायित्व निर्धारित करते हुए दायित्व सौपा जाए।महानगर के सभी वार्डो एवं मुहल्लों में सफाई कार्य पर लगे सफाई कर्मियों का बायोमैट्रिक मशीन लगाकर उपस्थिति ली जाए।जलकल विभाग में 1 अधिशासी अभियन्ता, 4 सहायक अभियन्ता एवं 16 अवर अभियन्ता का पद सृजित कराने हेतु कार्यकारिणी द्वारा प्रस्ताव पारित किया गया।इसे शासन को सन्दर्भित किया जाए।हिन्दुस्तान उर्वरक एवं रसायन लिमिटेड, गोरखपुर में जलापूर्ति के लिए ताल जिसका 30 वर्षो के लिए 77450/- रूपये वार्षिक दर पर दिये जाने की स्वीकृति प्रदान की गयी।

अन्त में महापौर ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कार्यकारिणी समिति की बैठक समाप्त करने की घोषणा की।बैठक में महापौर सीताराम जायसवाल, उपसभापति जितेन्द्र सैनी, कार्यकारिणी सदस्य ऋषिमोहन वर्मा, शहाब अंसारी, संजय श्रीवास्तव, संजय यादव, बृजेश सिंह ‘छोटू‘, देवेन्द्र कुमार गौड़ ‘पिन्टू गौड़, राधेश्याम रावत, चन्द्रशेखर सिंह, अशोक यादव, विश्वजीत त्रिपाठी, श्रीमती रीता देवी सहित अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।

Related Posts

31150 लाख की लागत से नगर निगम कराएगा विकास कार्य