April 17, 2018
गोरखपुर

वाहन चेकिंग में ट्रेनी आईपीएस पर युवाओं ने की रौब गांठने की कोशिश, कैंट पहुंचे

वाहन चेकिंग में ट्रेनी आईपीएस पर युवाओं ने की रौब गांठने की कोशिश, कैंट पहुंचे

गोरखपुर: सत्ता का नशा क्या इतना खराब है कि जिसकी सरकार हो वही सरकारी अधिकारियों पर रुआब गाँठना शुरू कर दे। जी हां,अभी तक ऐसी बातें पूर्ववर्ती सरकार में सुनने को मिलती थी, लेकिन आज देखने को मिला कि यूनिवर्सिटी चौराहे पर वाहन चेकिंग अभियान में सत्ताधारी दल के कुछ युवा नेता ट्रेनी आईपीएस पर रौब गांठने की कोशिश करने लगे। हालांकि बाद में एसपी ट्रैफिक के आने पर उक्त युवाओं को कैंट थाने भेजा गया।जिन्हें छुड़ाने के लिए तमाम नेता थाने पहुंच गए।

गौरतलब है कि प्रदेश में कानून व्यवस्था बेहतर बनाने को सीएम योगी ने अधिकारियों को किसी भी तरह के दवाब से स्वतंत्र कर रखा है,वहीं सत्ता दल से जुड़े कुछ लोग कार्य के बीच मे अनावश्यक दवाब बनाना चाहते हैं। बता दें कि बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं से बचाव और यातायात निर्देशो का पालन करने के उद्देश्य से इन दिनों ट्रैफिक पुलिस हेलमेट और सीटबेल्ट को लेकर अभियान चला रही है,जिसके चलते महानगर में चौराहो पर वाहनों की चेकिंग की जा रही है।

इसी क्रम में आज भी विश्वविद्यालय चौराहे पर चेकिंग शुरू होने वाली थी कि विश्वविद्यालय छात्रावास में गोली चलने की खबर आ गयी।इसके बाद यूनिवर्सिटी चौराहे पर एसपी ट्रैफिक आदित्य प्रकाश वर्मा व ट्रेनी आईपीएस वीरेंद्र कुमार ने वहाँ पहुँच कर अपने दल बल और भारी पुलिस फोर्स के साथ बिना हेलमेट के चल रहे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करना शुरू किया। इस दौरान दो अलग अलग गाड़ियों पर जा रहे युवकों को जब पुलिस के सिपाहियों ने रोका तो युवको ने हंगामा शुरू कर दिया।

जिसे देख मौजूद ट्रेनी आईपीएस वीरेंद्र कुमार ने युवकों को समझाना चाहा तो वह और भड़क उठे और उनसे उलझ गए। इस बीच उन युवकों की नोकझोंक एसपी ट्रैफिक आदित्य वर्मा से भी हुई।हालांकि विश्वविद्यालय से परीक्षा देकर निकल रहे मौके पर मौजूद कुछ लोगों का कहना था कि उक्त युवक सत्ताधारी दल से संबंध एक छात्र संगठन के पदाधिकारी हैं। बाद में पुलिस उन युवकों को कैंट थाने ले आई।जहां पर बड़ी संख्या में सत्ता पक्ष और उनसे जुड़े छात्र संगठन के पदाधिकारी पहुंच कर मामले को मैनेज कराने में जुट गए।

Related Posts

वाहन चेकिंग में ट्रेनी आईपीएस पर युवाओं ने की रौब गांठने की कोशिश, कैंट पहुंचे