April 18, 2018
गोरखपुर

शहीद दिवस पर 11 किलोमीटर लंबे तिरंगे की गोरखपुर में उतारी गई आरती

गोरखपुर: आज आजादी के रणबाकुरों की 87 वीं शहादत दिवस पर हिन्दू चेतना मंच के बैनर तले आजादी के नायकों, राजगुरु, भगत सिंह और सुखदेव के बलिदान दिवस पर उन्हें याद और सम्मान करने के दौरान इस भावपूर्ण गीत से समाज को बड़ा संदेश देने की कोशिश की गई। ” जो शहीदों को करना नमन छोड़ दे, उनसे कह दो की भारत वतन छोड़ दे”। यह आवाज आज गोरखपुर से उठी।

गौरतलब है कि 23 मार्च का दिन देश में शहीद दिवस के रूप में याद किया जाता है। स्वतंत्रता संग्राम के नायक राजगुरु, भगत सिंह और सुखदेव को अंग्रेजों ने आज के ही दिन फांसी दे दी थी। इनको आज संवैधानिक स्तर पर शहीद का दर्जा प्राप्त नहीं है। ऐसे में इन वीर सपूतों को संवैधानिक सम्मान दिलाने के अभियान के तहत, 11 किलोमीटर लंबे तिरंगे की गोरखपुर में आरती भी उतारी गई। जो एक विश्व रिकॉर्ड हैै।

इस कार्यक्रम को खासतौर से भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के शहादत दिवस के अवसर पर आयोजित किया गया। आयोजन के मुख्य अतिथि महापौर सीताराम जायसवाल रहे। चूंकि यह तीनों रणबाकुरों की शहादत का 87वां वर्ष है, इसलिए वैदिक मंत्रोच्चार के बीच विधिवत पूजा-अर्चना के बाद आरती उतारने की जिम्मेदारी 87 महिलाओं को सौंपी गई थी। पूजा-आरती के दौरान महिलाओं का परिधान तिरंगा ही रहा। हिंदू चेतना मंच के बैनरतले आठ कुंतल भार का 11 किलोमीटर का तिरंगा आयोजन स्थल पर लगाया गया। मंच के अध्यक्ष रघुवंश के मुताबिक इस झंडे को तैयार करने में 42 दिन लगे। इसे सूरत के दर्जियों से तैयार कराया गया है। अभियान की अगली कड़ी इस तिरंगे की रथ यात्रा होगी।

Related Posts

शहीद दिवस पर 11 किलोमीटर लंबे तिरंगे की गोरखपुर में उतारी गई आरती