April 17, 2018
गोरखपुर

अभी मात्र बाउन्ड्रीवाल का कार्य पूरा, 113 करोड़ रुपये से बढ़कर 226 करोड़ हो गया चिड़ियाघर का स्टीमेट

अभी मात्र बाउन्ड्रीवाल का कार्य पूरा, 113 करोड़ रुपये से बढ़कर 226 करोड़ हो गया चिड़ियाघर का स्टीमेट

गोरखपुर: बड़ी अजीब बात है कि अभी जिले का चिड़ियाघर का निर्माण पूरा नही हुआ, अभी तक केवल बाउंड्री वाल ही पूरी हुई है। जबकि इसका इस्टीमेट बढ़कर 113 करोड़ से बढ़कर 226 करोड़ हो गया। जिसे देखते हुए डीएम के पांडियन ने कार्यदायी संस्थाओं को रिवाइज स्टीमेट देने से बचने की सलाह दी है। बुद्धवार को कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री के प्राथमिकता वाले निर्माण कार्यों को समय से पूरा करने के लिए जिलाधिकारी के विजयेन्द्र पाण्डियन ने समीक्षा के दौरान कार्यदायी संस्थाओं को निर्देश दिया है।

उन्होंने कहा कि समय से कार्य पूर्ण न होने पर निर्माण कार्य की लागत बढ़ती है। कार्यदायी संस्थाओं को रिवाइज स्टीमेट देने से बचना चाहिए।उन्होंने समीक्षा में पाया कि चिड़ियाघर का स्टीमेन्ट 113 से बढ़कर 226 करोड़ हो गया है और अभी मात्र बाउन्ड्रीवाल का कार्य पूरा हो पाया है। इसमें अभी प्रवेश द्वार, बाड़ा आदि बनाना है।

मुख्यमंत्री के निर्देश पर अब यहां 4डी आडिटोरियम बनेगा। उन्होंने 31 दिसम्बर 2018 तक चिड़ियाघर का निर्माण कार्य पूरा करने का निर्देश दिया है।जिले में आडिटोरियम की बाउन्ड्री वाल का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। इसमें पूर्व से निर्मित भवन के ध्वस्ती करण के लिए शासन ने डीएम की अध्यक्षता में समिति गठित किया गया है। जो एक सप्ताह में निर्णय ले लेगी,ताकि भवन गिराकर मुख्य भवन का काम शुरू हो सके। इसकी लागत 49.05 करोड़ रूपये है। जिसमें से 20 करोड़ प्राप्त हो गया है। यह दो साल में पूरा होगा।

गन्ना शोध संस्थान का कार्यालय कूड़ाघाट से पिपराइच चीनी मिल के आवासीय भवन में शिफ्ट हो गया है। इसके पास 8.44 हे0 भूमि के अधिग्रहण का कार्य किया जा रहा है। कूड़ाघाट स्थित गन्ना शोध संस्थान के भवन के ध्वस्तीकरण के कार्यवाही भी की जा रही है। इसके लिए डीएम ने फोन पर निदेशक से बात कर के तेजी लाने का निर्देश दिया। उप निदेशक कृषि से बताया कि उनके भवन के ध्वस्तीकरण की कार्यवाही की जा रही है।

जबकि रामगढ़ताल के सौन्दर्यीकरण के कार्य की समीक्षा में उन्होंने पाया कि कार्य तेजी से कराया जा रहा है। इसके बंधे के स्टोन पाइलिंग का कार्य हो रहा है। इसके वेटलैन्ड के नोटिफिकेशन का कार्य हो गया है।

जिलाधिकारी ने समीक्षा में पाया कि परिवहन की क्षेत्रीय कार्यशाला का निर्माण अभी शुरू नही हो पाया है। बस स्टेशन का काम शुरू हो गया है। जिसे मार्च 2019 में पूरा किया जायेगा।

सालिड वेस्ट मैनेजमेन्ट प्लान्ट महेसरा में 30 एकड़ में निर्माण होगा। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि घर-घर से कूड़ा उठान करके शहर के बाहर ले जाये। लगभग 200 आवारा पशुओं के लिए कान्हा उपवन बनाया जायेगा।

सर्किट हाउस के पास निर्माणाधीन मिनी सचिवालय मार्च 2019 तक पूरा करने का जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्था को निर्देश दिया है। अनुसूचित जाति/जन जाति की छात्र-छात्राओं को प्रतियोगी परीक्षाओं में तैयारी के लिए कोचिंग सेन्टर की अनुमति 6 माह पूर्व मिली,परन्तु अभी कार्य शुरू न होने पर जिलाधिकारी ने असंतोष व्यक्त किया तथा इसका निर्माण शीघ्र शुरू कराने का निर्देश दिया है।

गोरखपुर-वाराणसी मार्ग में निर्माण की बाधाओं को दूर करने के लिए डीएम ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया है। इसमें 10 किमी0 पर न्यायालय में मुकदमा है। मुआवजा का भुगतान किसानों को करने का भी उन्होंने निर्देश दिया है।

जिलाधिकारी ने हाबर्ट बांध-जंगल कौड़िया मोहद्दीपुर पर-फोरलेन, कालेसर मार्ग,गन्ना मूल्य भुगतान,जिले को खुले में शौचमुक्त करने का अभियान तथा शौचालय निर्माण की समीक्षा किया।

Related Posts

अभी मात्र बाउन्ड्रीवाल का कार्य पूरा, 113 करोड़ रुपये से बढ़कर 226 करोड़ हो गया चिड़ियाघर का स्टीमेट