April 17, 2018
गोरखपुर

टेरर फंडिंग के आरोपियों को लेकर आई एटीएस टीम, सुबूत इकट्ठा कर वापस लौटी

टेरर फंडिंग के आरोपियों को लेकर आई एटीएस टीम, सुबूत इकट्ठा कर वापस लौटी

गोरखपुर: महानगर के विभिन्न इलाकों से पिछले शनिवार को टेरर फंडिंग में गिरफ्तार किए गए दस आरोपियों में से छह आरोपियों को लेकर बीती शनिवार को एटीएस की टीम गोरखपुर आई। सभी आरोपियों को उनके ठिकाने पर लेकर पहुंची टीम ने दोबारा कमरों की तलाशी ली। कमरों से मिले उनके सामान सहित अन्य सबूत जब्त किए। मकान मालिक सहित अन्य लोगों से पूछताछ करने के बाद रात में टीम लौट गई।

बता दें कि टेरर फंडिंग के मामले में शनिवार को एटीएस ने बलदेवा प्लाजा के मोबाइल कारोबारी नसीम उसके भाई अरशद के अलावा मुकेश, सुशील राय, निखिल राय उर्फ मुशर्रफ और दयानंद यादव को गिरफ्तार किया था। एटीएस ने पूछताछ के लिए सभी आरोपियों को रिमांड पर लिया है। पूछताछ में मिली अहम जानकारी के आधार पर एटीएस टीम उन्हें लेकर शनिवार को गोरखपुर आई। एटीएस टीम शाम को सबसे पहले उन्हें देवरिया बाईपास पर स्थित उस पेट्रोल पंप पर ले गई जहां दयाराम नौकरी करता था। यहीं से कार्ड स्वैप कर मुशर्रफ को वह पैसा देता था।

दयाराम की मौजूदगी में टीम ने पीओएस मशीन को सील किया। दयानंद के पास पहनने के लिए कपडे नहीं थे। टीम ने उसके लिए पेट्रोल पंप कर्मचारियों से कपड़े लिए।वहां कार्रवाई पूरी करने के बाद तारामंडल क्षेत्र में भरवलिया स्थित एके श्रीवास्तव के मकान पर निखिल उर्फ मुशर्रफ और सुशील राय को लेकर टीम पहुंची। दोनों यहीं पर किराये पर रहते थे। उनके कमरों में एटीएस ने ताला लगाया था। कमरों को खोलने के बाद टीम ने उसकी गहनता से जांच की और मकान मालिक से पूछताछ की। यहां से करीब चार बैग सामान लेकर टीम आपने गई। ये सारे सामान मुशर्रफ और सुशील राय के थे। करीब एक घण्टे तक एटीएस यहां रही।

इसके बाद शाम के लगभग 6 बजे कूड़ाघाट इलाके के झरना टोला स्थित रिटायर बैंक प्रबंधक के मकान पर एटीएस पहुंची। मुकेश नामक आरोपी यहां किराये पर रहता था। कमरों की तलाशी के साथ ही मकान मालिक से बातचीत के बाद टीम लौट गई। अंत में देर शाम नसीम और अरशद को लेकर बलदेव प्लाजा स्थित उनके दुकान पर टीम पहुंची। दोनों भाइयों के साथ काफी देर तक दुकान की तलाशी ली और जरूरी सबूत इकट्ठा किए। यहां से भी टीम ने कई दस्तावेज जब्त किए।

Related Posts

टेरर फंडिंग के आरोपियों को लेकर आई एटीएस टीम, सुबूत इकट्ठा कर वापस लौटी