April 17, 2018
टॉप न्यूज़

सीएम की टॉस्‍क फोर्स हो रही है नाकाम, करोड़ो की सरकारी जमीन पर भू माफियाओं का कब्‍जा

कुशीनगर: 2017 के विधान सभा चुनाव में भू माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई एक बड़ा मुद्दा था। इसी के दृष्टिगत सत्‍ता में आने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने एंटी भू माफिया टॉस्‍क फोर्स का गठन किया। चुनाव बाद पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद जैसे कद्दावर नेता के खिलाफ कार्रवाई हुई तो एकबारगी ऐसा लगा मानों अब आम आदमी को भू माफियाओं से निजात मिल जाएगी।

भू माफियाओं के खिलाफ कार्यवाई कर समस्या ख़त्म करने की बात सरकार भले ही कर रही हो लेकिन हकीकत कुछ और ही साबित हो रहा है। योगी आदित्यनाथ का गढ़ कहे जाने वाले कुशीनगर में एंटी भू माफिया टॉस्‍क फोर्स पूरी तरह नाकाम हो गया है। इस जिले में कई ऐसे मामले हैं जिसमें तहसील प्रशासन ने कब्‍जा खाली कराने का आदेश दिया लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो सकी। ताजा मामला सामने आया है जिसमें लोग शिकायत करते रहे और सिचाई विभाग की मिली भगत से सिचाई विभाग की लगभग 2 एकड़ जमीन पर आज बड़ी बिल्डिंग खड़ी हो चुकी है।

दरअसल पूरा मामला कुशीनगर जनपद के पडरौना तहसील क्षेत्र के बडहरा गाँव का है जहाँ सिचाई विभाग की लगभग 2 एकड़ जमीन पर एक दबंग सपा नेता द्वारा अवैध रूप से कब्ज़ा कर लिया गया है। उक्त गाँव में सिचाई विभाग भट्ठा कैनाल की जमीन है। जिस पर सपा नेता नथुनी कुशवाहा द्वारा धोखे व सत्ता के हनक से कब्ज़ा कर बननी देवी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय का निर्माण करा लिया गया। इस जमीन पर काबिज रहने के लिए उक्त दलबदलू नेता कभी बसपा तो कभी सपा का दामन थमाते रहे।

इसके बावजूद भी सपा सरकार के शासनकाल के अंत में लोगो की शिकायत पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने संज्ञान लेते हुए इस मामले को जिलाधिकारी द्वारा त्वरित कार्यवाई का आदेश दिया था। जिसपर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने उक्त जमीन के स्वामित्व को ख़ारिज करते हुए फिर भट्ठा गंडक कैनाल सिचाई विभाग के नाम दर्ज तो करा दिया ल्रेकिन आज तक अवैध कब्जे को जमीन से खाली नहीं कराया गया है। लोगों का आरोप है कि अधिकारियों के साठगाठ से उक्त जमीन पर सपा नेता आज भी कब्ज़ा है।

वर्तमान में प्रदेश सरकार इस तरह के मामलों को गंभीरता से लेते हुए प्रदेश में एंटी भू माफिया टास्क फ़ोर्स का गठन कर भू मफियायों के खिलाफ कार्यवाई करने का दंभ तो जरुर भर रही है लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही सामने आ रहा है। अधिकारी और कर्मचारी भू माफियायो से मिलकर प्रदेश सरकार के मनसूबे पर पानी फेर रहे है।

इस मामले का शिकायत ग्रामीणों द्वारा सम्बंधित उप जिलाधिकारी से लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक से भी किया गया है। लेकिन इस भू माफिया के खिलाफ कार्यवाई न होना अपने आप में एक बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है कि आखिर पैसे और दबंगई के बल पर कबतक सरकारी जमीनों पर कब्ज़ा होती रहेगी और अधिकारी व कर्मचारियों की भू माफियाओं से सांठ गाँठ कब तक चलता रहेगा।

इस मामले में जब जिलाधिकारी से बात करने की कोशिश की गई तो वे मामला गंभीर बताते हुए शीघ्र कार्यवाई करने बात कह मिडिया के कैमरे के सामने आने से मन कर दिए।

वहीँ कुशीनगर दौरे पर आये उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव राजीव कुमार ने मिडिया से बात करते हुए बताया कि इस प्रकरण की जानकारी हमें है और सिचाई विभाग के प्रमुख अभियंता भी यहाँ आये है। इस प्रकरण का अंतिम रूप से निस्तारण करके ही वो लखनऊ वापस जायेंगे। लेकिन अब तक कुछ भी कार्यवाई होता नहीं दिखा।

Related Posts

सीएम की टॉस्‍क फोर्स हो रही है नाकाम, करोड़ो की सरकारी जमीन पर भू माफियाओं का कब्‍जा