Best Gorakhpur News in Hindi - top news in gorakhpur, Live Hindi News in Gorakhpur

Final ReportApril 9, 2016
Woman-died-in-Gorakhpur.jpg

Woman-died-in-Gorakhpurगोरखपुर: झंगहा थाना छेत्र के राजधानी के पास राजी जगदीश पुर गांव में आज संदिग्ध परिस्थितियों में एक विवाहित महिला की उसके ससुराल में मौत हो गयी। महिला के गले में रस्सी से कसने का निशान है।

ससुराल वालो के मुताबिक़ उसने रात में कमरे में फंदा लगाकर आत्म हत्या कर ली। गांव वालो को इस घटना के बारे में आज सुबह उस समय पता चला जब ससुराल वालो ने बिना पुलिस को सुचना दिए शव को उतारकर बाहर रखा। और मिडिया को कवरेज करने से रोकने लगे।वहीँ मौके पर पहुंचे मायके वाले ससुराल वालो पर हत्या किये जाने का आरोप लगा रहे है

प्राप्त जानकारी के अनुसार कैंट थाना छेत्र के महादेव झारखण्डी टुकड़ा नंबर एक में रह कर मछली का व्यसाय करने वाले भगवान दास की इकलौती बेटी कुसुम 25 की शादी 4 वर्ष पहले झंगहा थाना छेत्र के राजी जगदीश पुर निवासी राम बेलाश पासवान के बेटे मंजीत से हुई थी। उसका एक 2 वर्ष का बेटा भी है। आज सुबह उसके ससुराल में उसकी संदिग्ध हालत में मौत हो गयी। उसके गले पर कसने का निसान था।

ससुराल वालो के मुताबिक़ उसने रात में किसी बात पर पति से झगड़ा होने के बाद कमरे में फंदा लगाकर आत्म हत्या कर ली। सुबह जब ससुराल वालो ने कमरे से शव को बाहर निकला तब गांव वालो को घटना के बारे में पता चला।गाँव वालो के मुताबिक़ कल ही विवाहिता अपने मायके से ससुराल आयी थी। सुचना मिलते ही मायके वाले भी पहुंच गये और ससुराल वालो पर हत्या करने का आरोप लगाने लगे।

घटना की जानकारी होने पर मोके पर पुलिस पहुँच गयी ।पुलिस ने जांच शुरू कर दिया।मृतका का पति गांव में ही ट्रेक्टर चलाने का काम करता है।मृतका के पांच भाई है।

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

Final ReportApril 9, 2016
Fire-in-fields-in-Gorakhpur.jpg

Fire-in-fields-in-Gorakhpurगोरखपुर: जिस फसल को देखकर गाव का किसान भविष्य के सपनों की चादर बुनता है, अगर उन्ही सपनों में आग लग जाये तो फिर बेबस किसान की आखो में नाउम्मीदी के सिवा क्या बचेगा। क्योंकि इसी फसल के आस में बच्चों की शिक्षा और बेटी की शादी सब कुछ तय थी अब वह कैसे पूरी होगी।

आग का तांडव, जी हां चारो तरफ आग ही आग, खेतो में इन दिनों जिधर देखो उधर आग ही आग, कुछ सरकारी तंत्र ने किसानो को अधमरा कर दिया, तो कुदरत ने आज किसान इस कदर परेशान है कि उनकी आँखों में न तो आंसू बचा है और न ही जीने के लिए कोई उम्मीद।

Fire-in-fieldsगोरखपुर में हर दिन सैकड़ो हजारो एकड़ फसल जल कर राख हो जा रही है। शुक्रवार को गोरखपुर में सुबह से ही जो आग की खबर आनी शुरू हुई सो खत्म होने का नाम ही नहीं लिया।

अलग-अलग थाना क्षेत्रों के अलग-अलग गाँवों में आग ने इस कदर कोहराम मचाया कि सैकडों किसानों की मेहनत मिनटों में जल कर राख हो गई। फिर चाहे पीपीगंज इलाके की बात हो झंगहा की बात हो या फिर चिल्लुआतल और सहजनवा, गोला या बड़हल गंज की, चारो तरफ आग की ही खबर निकल कर आ रही
है।

Farmers-in-their-fields-watइस आग की चपेट में आने से हजारो एकड़ फसल जल कर राख हो गई, गोरखपुर के पीपीगंज थाना क्षेत्र के नैंसर के पास भईयाराम, टिकरा और कोलुआ गाँव में आग ने इस कदर तांडव मचाया की केवल पीपीगंज में तक़रीबन 150 एकड़ फसल जल कर राख हो गयी।

झंगहा मे पिट जाती पुलिस

झंगहा के भगने सहित कई गाँव के गेहूं की फसल मे आग लगने मे दमकल की गाडी के लेट होने से आक्रोशित ग्रामीणों ने बरही चौकी का घेराव किया तो मामला बिगड गया और चौरीचौरा, पिपराईच, व खोराबार की पुलिस मौके पर पहुंच गई।

Farmers-in-their-fieldsसभी लोग थानेदार अनिल यादव के बारे पूछताछ कर रहे थे और सबसे बाद थानेदार पहुंचे।

कुछ पुलिसकर्मियो का कहना था कि बरही मे पुलिस पिटने से बच गई। लोगों ने थानेदार पर भी सवाल किया कि इतनी बडी घटना पर आखिरकार थानेदार तत्काल क्यों नही पहुंचे।

बहरहाल यह समझना पुलिस अधिकारियों का काम है लेकिन वहां पर बडी लापरवाही सामने आ रही है। और लापरवाही से पुलिस खुद बेइज्जत होने से बची हैा

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

Final ReportApril 9, 2016
Image-for-representation-7-1.jpg

Image-for-representation-7

gif2-banner

गोरखपुर: पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन जोन मुख्यालय गोरखपुर के रास्ते पटना से लखनऊ होते हुए दिल्ली तक राजधानी एक्सप्रेस चलाने की तैयारी में भी जुट गया है। अभी तक पूर्वोत्तर रेलवे मुख्यालय गोरखपुर ऐसे किसी सीधे रूट पर नहीं पड़ रहा था, जो किसी प्रदेश की राजधानी को देश की राजधानी से जोड़ता हो। कोलकाता से चलने वाली राजधानी पूर्वोत्तर रेलवे के छपरा-बलिया रूट से होकर गुजर जाती है।

पटना स्थित गंगा नदी पर दीघा पुल के निर्माण से गोरखपुर को कई सुपर फ़ास्ट सौगात मिल सकती है। इस पुल के नाते गोरखपुर से पटना की दूरी भी कम हो गई है। फिलहाल, गोरखपुर से दो पैसेंजर ट्रेन पाटलिपुत्र तक चल रही हैं।

दरअसल, हाल ही में दिल्ली में देशभर के परिचालन विभाग के संबंधित अधिकारियों की बैठक में दीघा पुल और पूर्वोत्तर रेलवे रूट पर भी विस्तार से चर्चा हुई थी। ट्रेनों के बीच गैप खोजा रहा है। इसके लिए पूर्वोत्तर रेलवे प्र और पूर्व मध्य रेलवे हाजीपुर में विमर्श शुरू है।

गोरखपुर से लखनऊ, वाराणसी और पटना के बीच की दूरी लगभग समान है। इसके बाद भी पटना की राह पहाड़ चढ़ने जैसी है। रेल गाड़ियां हाजीपुर से ही बरौनी और मुजफ्फरपुर की तरफ मुड़ जाती हैं। पटना जाने वाले नौकरीपेशा, व्यवसायी, छात्र, मरीज और आम यात्रियों को हाजीपुर में ही उतरना पड़ता है।

सूत्रों के अनुसार आने वाले दिनों में लखनऊ से बिहार की राजधानी पटना के बीच एक एक्सप्रेस ट्रेन अलग से चलने लगेगी। पूर्वोत्तर रेलवे ने बोर्ड के समक्ष प्रस्ताव रखा है, हरी झंडी मिलने का इंतजार है।

रेलवे के सूत्रों के मुताबिक, रूट निर्धारण को लेकर भी मंथन जारी है। गोरखपुर से लखनऊ तक की यात्रा बढ़नी-गोंडा के रास्ते पूरी होगी या मुख्य मार्ग से, यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है।

LIKE US:

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

Final ReportApril 8, 2016
Image-for-representation-6-2.jpg

Image-for-representation-6लखनऊ: गोरखपुर-कप्तान्गंज-थावे-सीवान रेल खंड पर इस समय चल रही सवारी गाड़ियों 55071/55072 एवं 55073/55074 के स्थान पर डेमू गाड़ी संख्या 75011, 75012, 75009 एवं 75010 का चलाई जा रही है।

रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि रविवार को अनुरक्षण के लिए डेमू गाड़ियों का परिचालन निरस्त किया गया था।

रेलवे प्रशासन द्वारा यात्री जनता की सुविधा के लिए गोरखपुर-कप्तानगंज-थावे-सीवान रेल खंड में चल रही डेमू गाड़ी संख्या 75011, 75012, 75009 एवं 75010 का संचालन अब छह दिन के स्थान पर प्रतिदिन किया जाएगा।

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

Final ReportApril 8, 2016
MLA-Sant-Prasad-stages-prot.jpg

MLA-Sant-Prasad-stages-protगोरखपुर: बासगांव थाना क्षेत्र के बढ़नी चौराहे पर कल देर शाम नागेन्द्र सिंह की हत्या किये जाने के विरोध में खजनी के विधायक संत प्रसाद के नेतृत्व में स्थानीय ग्रामीणों ने खजनी-मालहनपार मार्ग जाम कर धरना प्रदर्शन किया।

सी ओ बांसगांव व् खजनी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुँच कर अपराधियों को जल्द से जल्द पकड़ने का आश्वासन दे कर जाम ख़त्म कराया। जाम लगभग दो घंटे तक रहा।

Police-at-the-siteबता दें की बांसगाव थाना क्षेत्र के हरनही चौकी क्षेत्र के बढ़नी गोपालपुर गाव में कल गुरूवार की रात में बाइक सवार दो हमलावरों द्वारा घर से बाहर बुलाकर नागेन्द्र सिंह की हत्या कर दी गयी थी।

इस घटना को लेकर स्थानीय नागरिकों में काफी आक्रोश था।विधायक संत प्रसाद ने प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा अगर अपराधी जल्द नहीं पकडे गए तो फिर से जनांदोलन करने के लिए बाध्य होंगे।

People-stage-protest

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

Final ReportApril 8, 2016
Injured-girl.jpg

Injured-girlगोरखपुर: महिला पुलिस की भर्ती के लिए केंद्र बनाये गए शहर के शाहपुर थाना क्षेत्र के बिछिया स्थित पीएसी ग्राउंड पर चल रही पुलिस सिपाही भर्ती में दौड़ के दौरान आज दो युवतियां गिरकर बेहोश हो गईं।

बेहोश हुई छात्राओं के पैर फ्रैक्चर हो गए हैं। दोनो को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

Injured-girl-1प्राप्त जानकारी के अनुसार आज दूसरे दिन महिला पुलिस भर्ती के शारीरिक परीक्षा के क्रम में सुबह दिल्ली के रामकेवल की पुत्री पुष्पा दूसरे राउंड में गिर पड़ी और पैर फ्रैक्चर हो गया।

अभी उसे लोग संभाल ही रहे थे कि महराजगंज निवासी वीरेन्द्र यादव की बेटी शशिकला भी दौड़ते समय गिर पड़ी और उसका भी पैर फ्रैक्चर हो गया।

इसके पहले कल इलाहाबाद कानपुर व आगरा में छात्राएं गिरकर बेहोश हो गई थी। जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

Final ReportApril 8, 2016
Missing-girl.jpg

Missing-girlगोरखपुर: शाहपुर थाना क्षेत्र के पादरी बाजार स्थित मोहनापुर पहलवान टोला निवासी केंद्रीय विद्यालय की छात्रा माँ की डाँट से नाराज होकर गोंडा भाग गयी थी। आज सुबह पुलिस उसे गोंडा से लेकर वापस आ गयी।

बता दें कि शाहपुर थाना क्षेत्र के पादरी बाजार के मोहनपुर निवासी एवम् केंद्रीय विद्यालय एयर फ़ोर्स की 9 वी छात्रा नेहा निषाद (14 वर्ष )जो तीन अप्रैल से लापता थी। उसके पिता अनिल कुमार ने उक्त प्रकरण में बीते बुधवार को शाहपुर थाने में अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था और कल मदद की गुहार में एसएसपी कार्यालय पहुच गए थे।

इस मामले में पुलिस ने अब अपना शिकंजा कसना शुरू ही किया था कि बीती रात में नेहा ने अपने घर वालो को फोन कर वापस आने के गोंडा बुलाई। सुचना पाकर उसके पिता की सुचना पर घर वालो के साथ थाने से एक दरोगा और सिपाही गोंडा नेहा को लेने गए और भोर में गोरखपुर लेकर पहुंचे।

सूत्रों से मिली जानकारी से पता चला परीक्षा में फेल होने के बाद मम्मी ने डांटा और वो घर से भागी थी। सीसीटीवी कैमरे में कैद आदमी को नेहा की साईकिल जमा करते देखा गया था वो रिक्शा चालक था।

शाहपुर पुलिस ने रात में उसे उठा कर पूछ ताछ किया तो पता चला साईकिल स्टेशन के बहार ताला बंद कर के लावारिस हालत में पड़ी थी।

जीआरपी के एक सिपाही ने रिक्शे वाले से कहा था जाकर स्टैण्ड में जमा कर दो।

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

Final ReportApril 8, 2016
Navratri-celebration-2.jpg

Navratri-celebration-2गोरखपुर: भक्तो की लम्बी कतार, माता के दर्शनों के लिए मंदिरों में उमड़ी भीड़। जी हां ये नजारा है, गोरखपुर का जहा आज सुबह से ही हर मंदिर में माता के दर्शन के लिए माँ के भक्तो की लम्बी कतार देखी जा सकती है।

एक तरफ मंदिर में दर्शन करने वालो की भीड़, दूसरी तरफ माता की लाल लाल चुनरी और नारियल जो की माता के प्रसाद के रूप में रम जाते । श्रद्धालुओं को देख मन भाव विभोर हो जाता है, और सभी के दिल से सिर्फ एक ही आवाज निकलता है, जय माता दी।

Budhiya-Maai-Gorakhpurआज आदि शक्ति मां जगदंबे की आराधना का पावन काल शारदीय नवरात्रि का पहला दिन है। इसी के साथ महानगर में नवरात्र का उल्लास शुरू हो गया। जो श्रद्धा व भक्ति में डूबे भक्त नौ दिनों तक मां की स्तुति में स्वयं को अर्पित कर देंगे। चूँकि चैत्र माह का ये नवरात्र है, इसलिए नवरात्र पूजन के लिए पिछले कई दिनों से हिंदू धर्मावलम्बियों के घरों में तैयारियां की जा रही थीं।

Navratri-celebrationजिसकी शुरुआत आज से घरों, मंदिरों में व्रत से शुरू हो गयी। नवरात्रि के पावन पर्व पर व्रत का बड़ा महत्व माना गया है। शास्त्रों की मानें तो कोई भी चीज बिना कठिन तप के प्राप्त नहीं होती। देवी की कृपा हो जाए तो बस सारी विघ्न-बाधाएं जीवन से दूर हो जाएंगी। इसी आस्था के साथ नवरात्रि में नौ दिनों तक मां के भक्त व्रत रखते हैं। कुछ लोग पूरे नौ दिनों तक व्रत रहेंगे तो कुछ प्रतिपदा और फिर अष्टमी का व्रत रखना चाहते है |

Navratri-celebration-1नवरात्र के दौरान युवा, बच्चे और बड़े सभी में श्रद्धा व उल्लास का भाव देखने लायक होता है। आज के दिन महिलाए माता की नो दिन व्रत रह कर इस नवरात्री के पावन अवसर पर अपने घरो के साथ साथ मंदिरों में जाकर माता की अराधना करती है और अपने लिए व् अपने परिवार के कष्टों के निवारण के लिए माँ जगदम्बे से प्रार्थना करती है |

Navratri-celebration-3आज चैत्र रामनवमी के प्रथम दिवस पर जनपद के दुर्गा मन्दिरों में श्रद्धावनत दर्शनार्थियों की भीड़ उमड़ चुकी है।महानगर के हृदयस्थली गोलघर स्थित माँ काली के मन्दिर में आज सुबह से भक्तो का ताँता लगा हुआ था।इसके अतिरिक्त जनपद के अन्य मन्दिरो यथा चौरीचौरा क्षेत्र के तरकुलहा मन्दिर, खोराबार क्षेत्र के कुसम्हि जंगल स्थित माँ बुढ़िया माता मन्दिर, माता कुरावल देवी मन्दिर और गोला क्षेत्र के सम्मय माता मन्दिर पर दूर- दराज से भारी संख्या में भक्तो का ताँता लगा हुआ है।हर तरफ जय मातादी के भक्तिमय नारो से गुंजायमान हो रहा है।

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

GFR DeskApril 8, 2016
yogi.jpg

Yogi-Aditynathगोरखपुर: चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से प्रारम्भ नवसंवत्सर सम्पूर्ण हिन्दू समाज एवं राष्ट्र के लिए मंगलकारी हो। हिन्दू नव वर्ष पर यह हमारी शुभकामना है। उक्त बातें गोरक्षपीठाधीश्वर एवं गोरखपुर के सांसद महन्त योगी आदित्यनाथ जी ने नवसंवत्सर पर अपनी शुभकामनाएं देते हुए कही।

उन्होंने कहा कि नवसंवत्सर यानी भारतीय नववर्ष अर्थात् हिन्दू नववर्ष प्रत्येक वर्ष चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से प्रारम्भ होता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार ब्रह्मा जी ने इसी दिन सृष्टि की रचना की थी। यह सचमुच नया वर्ष है। जब सर्वत्र नयापन दिखाई देता है, मौसम में नयापन आता है। पतझड़ के बाद ग्रीष्म ऋतु के आगमन पर नई फसल के साथ एक नई उमंग और उत्साह सर्वत्र दिखाई देता है। जगत् जननी मां भगवती के भी रूपों की उपासना का पर्व नवरात्र में प्रकृति की प्रतीक शैलपुत्री की अराधना से इस दिवस की शुरूआत होती है।

मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम का राज्याभिषेक भी इसी दिन हुआ था। शकों को हराकर महान प्रतापी सम्राट विक्रमादित्य का राज्यभिषेक भी इसी दिन हुआ था, तभी से विक्रम सम्वत् की शुरूआत भी हुई। भारत के अन्दर सभी जन्मोत्सव, सभी विवाहोत्सव, सभी मांगलिक एवं शुभ कार्य की गणना विक्रम सम्वत् से ही होती है। अतः नवसंवत्सर ही वास्तविक, पौराणिक, प्राकृतिक और वैज्ञानिक नववर्ष है। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से ही अनेक संवत्सर प्रारम्भ हुए। सृष्टि के प्रारम्भ में अंधकार यानी अमावस्या थी।

Chaitra-Navratri-910x600

ब्रह्मा जी ने सूर्य, पृथ्वी, चन्द्र, तारे, नक्षत्र बनाए, अर्थात् अमावस्या के बाद सूर्योदय हुआ। भारतीय दिन की शुरूआत सूर्योदय से होती है न कि मध्यरात्रि में। पूर्णिमा को चन्द्रमा जिस नक्षत्र में होता है उसी आधार पर मास का नाम रखा गया है। जैसे चित्रा नक्षत्र से चैत्र, विशाखा नक्षत्र से वैशाख, ज्येष्ठ नक्षत्र से जेठ, श्रावण नक्षत्र से सावन, भाद्रपद नक्षत्र से भादो आदि नाम पड़े। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा यानी नवसंवत्सर पूर्णतया वैज्ञानिक नववर्ष है। यह न केवल वैज्ञानिक है अपितु अनेक महत्वपूर्ण धार्मिक, सामाजिक, राजनीतिक घटनाओं का साक्षी भी रहा है।

दुर्भाग्यवश हम इस शुभ दिन को हीनतावश भूलकर पूर्णतया काल्पनिक, अवैज्ञानिक ईसाई नववर्ष 1 जनवरी व ईसाई कलेण्डर को मानते हैं। जो राष्ट्र और समाज अपने अतीत पर गौरव की अनुभूति नहीं कर सकता हो तो उसका भविष्य भी उज्जवल नहीं हो सकता। आज आवश्यकता है अपने नववर्ष की शुरूआत हम भारतीय नववर्ष से करें।

hindu

यह प्रयास न केवल राष्ट्रीय स्वाभिमान को जागृत करने का प्रयास होगा अपितु सांस्कृतिक धरोहर को बचाने के लिए भी आवश्यक है। आज आवश्यकता है कि हम पाश्चात्य अपसंस्कृति को त्यागकर अपनी श्रेष्ठ परम्पराओं का अनुसरण करें। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा यानी भारतीय नवसंवत्सर अर्थात् हिन्दू नववर्ष उस शुभ संकल्प का एक पवित्र दिवस हो, यही पुरूष को पुरूषोत्तम बनाने, राष्ट्र के लिए शुभकारी, धार्मिक दृष्टि से मंगलकारी हो सकता है।

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

Final ReportApril 7, 2016
Gorakhpur-DM-ON-Singh-at-a-.jpg

Gorakhpur-DM-ON-Singh-at-a-गोरखपुर: जिलाधिकारी ओ एन सिंह ने चरगावा ब्लाक के वर्ष 2014-15 के लोहिया ग्राम आराजी छत्रधारी का आज स्थलीय निरीक्षण किया तथा गांव के प्राथमिक विद्यालय में चैपाल लगाकर लोगों से सीधे बातचीत कर योजनाओं से प्राप्त लाभ के बारे में जानकारी की।

जिलाधिकारी ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के साथ गांव के सड़कों, नाली, खडंजा, इंदिरा आवास, लोहिया आवास, शौचालय, हैण्डपम्प आदि का निरीक्षण किया।

प्राथमिक विद्यालय के परिसर में जिलाधिकारी ने चैपाल के अन्तर्गत ग्रामीणों को बताया कि विद्यालय में छात्रों का डेस दर्जी द्वारा नाप लेकर सिला जायेगा यदि शिकायत मिली कि गाड़ी पर लदकर डेस विद्यालय में आ रहे हैं तो जिम्मेवार व्यक्ति के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही के रूप में जेल भेजा जायेगा।

Gorakhpur-DM-ON-Singh-with-उन्होंने कहा कि बच्चों को खाना देने में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाये। उन्होंने गांव के 11 गर्भवती महिलाओं को एएनएम द्वारा दिये गये सुविधा की जानकारी ली तथा एम्बुलेंस सुविधा के बारे में भी पूरी जानकारी ली।

जिलाधिकारी ने बताया कि गरीब व्यक्ति का इलाज किसी चिकित्सक के यहां हो रहा है तथा उसके पास इलाज हेतु धन नही है तो सरकार उसके इलाज से संबंधित सभी बिल का भुगतान करेगी।

उन्होंने बताया कि गांव में कुल विधुत के 95 कनेक्शन दिये गये है लेकिन अभी भी 30 लोगों को कनेक्शन देने की क्षमता है। उन्होंने सुझाव दिया कि 15 अप्रैल को आयोजित कैम्प में कनेक्शन केा आवेदन देकर कनेक्शन प्राप्त कर लें अन्यथा बाद में कनेक्शन का भुगतान अधिक करना पड़ेगा।

जिलाधिकारी ने निर्मित शौचालय के बारे में पूछताछ कर जानकारी ली तथा कहा कि अब शौचालय केवल लाभार्थी द्वारा ही बनाया जायेगा इसके लिए धन लाभार्थी के खाते में आवंटित कर दिया जायेगा। जिलाधिकारी पेयजल योजना के अन्तर्गत रखरखाव पंचायत द्वारा कराये जाने की जानकारी देते हुए कहा कि केवल रिबोर का कार्य जल निगम द्वारा होगा।

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

 


error: Content is protected !!